Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
Breaking News
अनंत सिंह मामला : दर्जनों गाड़ियों से पुलिस का पीछा और पथराव, कई लोग हिरासत मेंसारण शूटआउट: दो स्कॉर्पियो पर सवार थे अपराधी, यूपी की ओर भागे!  शर्मनाक … जिसे शहीद कह हम इज्ज्त दे रहे है, उसी शहीद पुलिसकर्मी को लिटा दिया जमीन परबड़े घरों के बिगड़ैल बच्चे , पटना हाई कोर्ट के जज साहब को भी नहीं छोड़ा , DGP साहब को खुद आना पड़ाहाजीपुर में डकैतों से पुलिस का इनकाउंटर ,दो डकैतों को लगी गोली – गिरफ्तारधोनी के रिकॉर्ड की बराबरी करने से एक जीत दूर विराटभारतीय महिला हॉकी टीम फाइनल मेंसुब्रतो कप: सब-जूनियर अंडर-14 रिलायंस फाउंडेशन स्कूल ने झारखंड को 4-1 से पराजित कियाएलओसी पर पाकिस्तान की ओर से हुई गोलीबारी में शहीद हुआ बिहार का लाल रविरंजनछपरा : दरोगा और सिपाही शहीद, अपरधियों का तांडव

आतंकवाद पर पाक पीएम का बड़ा कबूलनामा

Pakistan's big confession of terrorism

10

- Sponsored -

- sponsored -

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को कहा कि उनके देश में पिछली सरकारों ने अमेरिका को सच नहीं बताया खासतौर से पिछले 15 सालों में। साथ ही उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में 40 अलग-अलग आतंकवादी समूह सक्रिय थे। पाकिस्तान ने अब तक ऐसा कुछ नहीं किया था जिससे उन्हें आतंक के खिलाफ लड़ने वाला कहा जाता। लेकिन अब इमरान खान ने जो कहा है वो पूरी दुनिया की आंखें खोलने वाला है। इमरान ने वो सच बताया है जिसे भारत बरसों से कहता रहा है। इमरान ने वो सच बताया है जो पाकिस्तान की पिछली सरकारों ने कभी नहीं माना। पहली बार इमरान खान ने कबूल किया है कि पाकिस्तान में 40 आतंकी संगठन काम कर रहे थे लेकिन कभी अमेरिका को ये सच्चाई नहीं बताई गई। इमरान खान इतना कह गए थे कि पाकिस्तान से ऑपरेट हो रहे आतंकी संगठनों पर सरकारों का कोई कंट्रोल नहीं था। इमरान का बयान वाशिंगटन से आया है जहां अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप से उनकी मुलाकात हुई है. इमरान खान ने कहा, ”हम आतंकवाद के खिलाफ अमेरिका की लड़ाई लड़ रहे थे। पाकिस्तान का 9/11 से कुछ लेना-देना नहीं था। अल-कायदा अफगानिस्तान में था। पाकिस्तान में कोई तालिबानी आतंकवाद नहीं था। लेकिन हम अमेरिका की लड़ाई में शामिल हुए। दुर्भाग्यवश जब चीजें गलत हुई तो हमने अमेरिका को कभी जमीनी हकीकत से वाकिफ नहीं कराया। इसके लिए मैं अपनी सरकार को जिम्मेदार ठहराता हूं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा, ”पाकिस्तान में 40 अलग-अलग आतंकवादी समूह सक्रिय थे। पाकिस्तान ऐसे दौर से गुजरा है जहां हमारे जैसे लोग चिंतित थे कि क्या हम (पाकिस्तान) इससे सुरक्षित निकल पाएंगे। इसलिए जब अमेरिका लड़ाई को जीतने में हमारी मदद की आशा कर रहा था उसी वक्त पाकिस्तान अपना अस्तित्व बचाने के लिए लड़ रहा था।

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored