Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

मोतीझील के अतिक्रमणकारी जायेंगे जेल

14

- sponsored -

- Sponsored -

जल्द ही डीएम के नेतृत्व में अतिक्रमणकारियों पर होगी कार्रवाई
संवाददाता
मोतिहारी। अब चंपारण में जलाशयों की कमी नहीं रहेगी। राज्य में सूखे की स्थिति को देखते हुए जल संचयन की जरूरत साफ महसूस की जा रही है। जिला प्रशासन ने लुप्तप्राय होते जा रहे जलाशयों को बचाने के लिए ह्यचंपारण का अर्पणह्ण नाम से एक महाअभियान शुरू करने जा रहा है, जिसके लिए अधिकारियों की टीम ने कमर कस ली है। इस कड़ी में मोतिहारी मोतीझील को लेकर जिला प्रशासन काफी कड़ा कदम उठाने जा रही है। मोतीझील के अतिक्रमणकारियों को गिरफ्तार करने के लिए एफआईआर की कार्रवाई करने का निर्देश जारी कर दिया गया है। डीएम रमण कुमार ने गुरूवार को समाहरणालय के वीसी कक्ष में पत्रकारों को बताया कि सरकार जल संग्रहण से लेकर जल संचयन की योजना बनायी है। क्योंकि सूखे की आपदा से निपटने के लिए यह आवश्यक हो चुका है। बारिश के पानी को रोकने के लिए तालाबों एवं झीलों को संरक्षण जरूरी हो गया है। पिछले 8 जून को जिले के प्रखंड व अंचल स्तर के अधिकारियों से उनके क्षेत्र के जलाशयों के बारे में रिपोर्ट मांगी गई थी। जल संचयन एवं संग्रहण योजना को फलीभूत करने के लिए सरकार के भूमि सुधार एवं राजस्व विभाग, आपदा प्रबंधन विभाग एवं ग्रामीण विकास विभाग को जिम्मा दिया गया है। इस योजना के तहत पुराने जलाशयों का संवर्द्धन किया जाएगा, झीलों का विकास किया जाएगा एवं भविष्य में होनेवाले जल संक्ट से बचाव के लिए लोगों के बीच जनजागरूकता पैदा की जाएगी। डीएम ने कहा कि जल संकट सिर्फ सरकार या प्रशासन का विषय नहीं है बल्कि यह सीधे आम लोगों से जुड़ा है। इसलिए आम लोगों को चाहिए कि वे जलाशयों को बचाव के लिए जागरूक रहें। अगर कोई जलाशयों पर अवैध रूप से कब्जा कर लिया है या करना चाहता है तो इसकी सूचना प्रशासन को दें। प्राकृतिक जलाशयों को संरक्षित करने में आम जनों की बड़ी भूमिका है। इसके साथ किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ करना आत्मघाती हो सकता है। आगामी 22 जून को पूरी रिपोर्ट आने के बाद अधिकारी इस पर कार्य करेंगे। मनरेगा से अब जिले के हर पंचायत में पांच जलाशयों का निर्माण कराया जाएगा। निजी तालाबों का भी लोग निर्माण करा सकते हैं। मनरेगा से पंचायतों में जलाशयों का निर्माण होगा। मोतीझील को लेकर डीएम ने कहा कि 165 चिन्हित लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया जा चुका है और उनकी गिरफ्तारी भी होगी, जिन्होंने अवैध तरीके से मोतीझील की जमीन हथियाकर उस पर किसी भी प्रकार का निर्माण कराया है। डीएम ने कहा कि मोतीझील के अस्तित्व को समाप्त करने की कोशिश की जा रही है। इसके किनारे हजारों लोग छठ के दौरान भगवान सूर्य को अर्घ्य देते हैं। डीएम ने माना कि मोतीझील को लेकर प्रशासन से बड़ी चूक हुई है। लेकिन सरकारी जमीन को बेचवाने में गड़बड़ी करनेवालों को अब बख्सा नहीं जाएगा। उन्होंने मोतीझील को लेकर प्रदर्शन करनेवाले युवाओं से कहा कि वे एकजुट हों और मोतीझील में बनाए गए अवैध सड़क को ध्वस्त करें। जिलाधिकारी ने कहा कि मोतीझील में बनी सड़क को समाप्त किया जाएगा साथ ही इसमें सरकारी जमीन पर निर्माण करनेवालों के खिलाफ काफी कड़ा एक्शन लिया जाएगा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -