Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने किये 1000 करोड़ के एमओयू साइन

दिल्ली में हिमाचल प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के दौरान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने किये 1000 करोड़ के एमओयू साइन

10

- sponsored -

- Sponsored -

नई दिल्ली, 11 जुलाई, 2019: आज नई दिल्ली में हिमाचल प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के दौरान मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर व उद्योग मंत्री श्री बिक्रम सिंह देश के डेढ़ दर्जन औद्योगिक घरानों के साथ वन टू वन रूबरू हुए और इस दौरान हिमाचल प्रदेश में निजी क्षेत्र की तीन बड़ी कंपनियों द्वारा करीब 1000 करोड़ रुपए के निवेश के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर हुए।
हिमाचल प्रदेश की एकमात्र एविएशन कंपनी स्की हिमालयाज रोपवे के साथ 500 करोड़ लागत के रोपवे , स्की रिजॉर्ट , हेली स्की, हेली टैक्सी व हेली सफारी के प्रोजेक्ट पर समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर की उपस्थिति में स्की कंपनी की ओर से मैनेजिंग डायरेक्टर अमिताभ शर्मा और हिमाचल प्रदेश सरकार की ओर से अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन राम सुभाग सिंह ने इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

स्की हिमालयाज और रोपवे हिमाचल के उद्यमियों द्वारा बनाई गई कंपनी है जो स्विस कंपनी एयर जरमाट (Air Zermatt) का संयुक्त उपक्रम है। इस प्रोजेक्ट के तहत यह कंपनी चांशल, कुल्लू -मनाली, लाहौल स्पीति व प्रदेश के उन जिलों में जहां बर्फ पड़ती है, वहां स्की रिजॉर्ट बनाएगी। कंपनी द्वारा चांशल एरिया में स्की सेंटर भी विकसित किया जाएगा। समझौता ज्ञापन के तहत यह कंपनी प्रदेश में आपदा के समय प्रशासन को राहत व बचाव कार्य संचालित करने में भी मदद करेगी। कंपनी के पास इस समय एक हेलीकॉप्टर पहले से कार्यरत है और दूसरा हेलीकॉप्टर भी शीघ्र ही कंपनी के पास उपलब्ध होगा । कंपनी द्वारा कुल्लू मनाली को इस का बेस बनाया गया है।

- sponsored -

- Sponsored -

इसी के चलते जयराम ठाकुर ने कहा है कि प्राकृतिक सौंदर्य , प्राकृतिक संसाधनों , पर्यावरण व कानून व्यवस्था की दृष्टि से हिमाचल प्रदेश की गणना देश के सर्वोत्तम राज्य के रूप में होती है और अगर उद्यमी राज्य में विभिन्न सेक्टरों में निवेश के लिए आगे आते हैं तो प्रदेश सरकार उन्हें पूरा सहयोग व सहायता प्रदान करेगी। मुख्यमंत्री आज नई दिल्ली में हिमाचल प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के सिलसिले में आयोजित रोड शो के दौरान उद्यमियों को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा  कि  प्रदेश सरकार ने निवेश के लिए केवल मात्र एक ही सेक्टर पर फोकस नहीं किया है बल्कि पर्यटन, साहसिक पर्यटन, कृषि, बागवानी , खाद्य प्रसंस्करण , बुनियादी संरचना, विद्युत उत्पादन, लॉजिस्टिक्स आदि समेत सभी क्षेत्रों में सरकार निवेश आकर्षित करना चाहती है। उन्होंने कहा प्रदेश सरकार ने हाइडल सेक्टर में निवेश आमंत्रित करने के लिए  पावर पालिसी में भी बदलाव किया है। उन्होंने कहा हिमाचल प्रदेश में पावर टेरिफ सबसे कम है और हमारा राज्य बिजली खरीदा नहीं बल्कि बेचता है। उन्होंने साहसिक खेलों, वाटर स्पोर्ट्स और होटल इंडस्ट्री सेक्टर में निवेश की अपार संभावनाएं छिपी हैं जिसके लिए उन्होंने उद्यमियों को आगे आने का
 निमंत्रण दिया।

ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट में मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर द्वारा उद्यमियों से रूबरू होने के दौरान ही सत्या डेवलपर्स कंपनी के साथ आवास निर्माण क्षेत्र में 300 करोड़ से अधिक राशि के एमओयू पर भी हस्ताक्षर हुए। यह कंपनी मध्यम वर्ग के लिए 700 से एक हजार आवास निर्मित करेगी। इसके अलावा PUREMAGICS LTD कंपनी के साथ भी करीब 50 करोड़ से एक Algae Farming & processing to extract Astaxanthin प्रोजेक्ट पर समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुए जिसके तहत इस कंपनी द्वारा शेवाल की खेती से एंटी ऑक्सीडेंट पदार्थ निकालकर इसे एंटी सेंसटाइजर के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा।
इस दौरान फील्ड फ्रेश फूड कंपनी द्वारा हिमाचल प्रदेश में खाद्य प्रसंस्करण इकाइयां स्थापित करने में अपनी गहरी रुचि दर्शाई गई। कंपनी की एक टीम अपने पूरे प्रस्ताव के साथ जल्दी ही हिमाचल चलाकर अधिकारियों से बैठक करेगी।
ओयो इंडिया व साउथ एशिया (Oyo india & South Asia ) ग्रुप द्वारा हिमाचल प्रदेश में पर्यटकों को और अधिक सुविधाएं देने के अपनी होटल चेन के विस्तार की पेशकश की गई । कंपनी की ओर से बताया गया कि राज्य के 36 शहरों व नगरों में उनकी होटल इकाइयां व कमरे हैं और करीब 5 हजार लोगों को कंपनी द्वारा रोजगार मुहैया करवाया गया है । मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर के साथ भेंट के दौरान Trans Metalite India Limited कंपनी द्वारा मंडी जिला की बल्ह घाटी में प्रस्तावित प्रदेश के सबसे बड़े हवाई अड्डे का निजी क्षेत्र में निर्माण के लिए अपनी टीम भेजकर इसकी संभावनाएं तलाशने और अपनी विशेषज्ञता व सहयोग प्रदान करने की पेशकश की गई। मुंजाल ऑटो कंपनी द्वारा प्रदेश में वाटलिंग वाटर प्लांट लगाने के क्षेत्र में बड़े निवेश की इच्छा जताई गई। एयर वन एविएशन (Air one Aviation) कंपनी द्वारा राज्य में कृषि बागवानी व अन्य क्षेत्रों में ड्रोन टेक्नोलॉजी उपलब्ध करवाने का प्रस्ताव दिया गया।
रिन्यू पावर लिमिटेड कंपनी द्वारा राज्य में ऊर्जा क्षेत्र में 200 मेगावाट तक निवेश करने का प्रस्ताव दिया गया जबकि ब्राइट स्टार्ट कारपोरेशन कंपनी द्वारा राज्य में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में निवेश का प्रस्ताव दिया गया। गिन्नी इंटरनेशनल लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शरद जयपुरिया ने बैठक में राज्य के कांगड़ा , मंडी व कुल्लू जिलों में बोर्डिंग स्कूल खोलने की इच्छा जताई। जल्दी ही प्रदेश सरकार के साथ इस कंपनी के समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर होंगे।
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर ने इस अवसर पर कहा कि राज्य में 85 हज़ार करोड रुपए के निवेश को आकर्षित करने का लक्ष्य रखा गया है और अब तक 22 हजार करोड के समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर हो चुके हैं। उन्होंने कहा इस वर्ष 7 से 8 नवंबर तक राज्य के धर्मशाला में पहला वैश्विक शिखर सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है और इस सम्मेलन से पहले संभावित निवेशकों तक पहुंचने के लिए राज्य सरकार देशभर में व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रोड शो इन्वेस्टर मीट कर रही है।
इस अवसर पर उद्योग मंत्री श्री बिक्रम सिंह, मुख्य सचिव श्री बीके अग्रवाल, अतिरिक्त मुख्य सचिव व मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री श्रीकांत बाल्दी, अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग श्री मनोज कुमार , अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन श्री राम सुभाग सिंह , प्रधान सचिव शहरी विकास ऊर्जा व बहुद्देशीय परियोजनाएं श्री प्रबोध सक्सेना, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव श्री संजय कुंडू ,उद्योग विभाग के निदेशक श्री हंसराज शर्मा सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored