Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

बच्चा चोरी कर हत्या करने के आरोप में एक महिला को पीट पीट कर जिंदा जलाया

14

- Sponsored -

- sponsored -

अररिया जिला अंतर्गतरानीगंज प्रखंड के भोड़हा पंचायत के वार्ड 1 बेलगच्छी में दिल दहला देने वाली घटना सामने आयी है। एक और लोगों में दशहरा पर्व को लेकर भक्तिमय माहौल है, वहीं बेलगच्छी में हाहाकार मचा हुआ है ।
यहां भीड़ के द्वारा तीन मासूमों  के सर पर से ममता का आँचल छीन लिया गया तो वहीं एक महिला के द्वारा दूसरे महिला के कलेजे की टुकड़ों को मौत की घाट उतार दिया गया ।

स्थानीय ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार घटना की शुरुवात सोमबार की रात 8 बजे से हुई ,जहां रात की अंधेरे में घर मे सोया हुआ सुबोध चौहान का आठ माह का बच्चा गायब हो गया । जिस समय बच्चा गायब हुआ था, उस समय माँ मवेशी को दरवाजे पर धुंआ दे रही थी । जब मां धुंआ दे कर घर सोने गई तो बच्चा गायब मिला । बच्चे  की मां ने अपने घर के लोगों से पूंछ ताछ एवं खोज बिन की जब बच्चा नहीं मिला, तो परिवार के लोगों ने हो हल्ला करना शुरू किया ।

महिला बच्चा चोर के बारे में बच्चा चोरी कर लेने की आशंका से जोर जोर से चिल्लाने लगी आवाज सुन कर पूरे गावँ के लोग लालटेन टोर्च इत्यादि से खेत खलिहान झाड़ी , बाड़ी ,हर जगह ढूंढने लगा । पूरी रात खोजबीन किया गया और बच्चा नहीं मिला ।
फिर हार कर काफी खोज बिन करने के बाद परिजन खोजना बंद कर दिया ।

पुनः सुबह चार बचे से बच्चा को परिजनों के द्वारा खोजना शुरू किया गया । तभी एक व्यक्ति के द्वारा घास की गही जो कि बच्चे के घर से पूर्व दिशा में शंकर सिंह के घर के पास में खोजने के क्रम में मृत अवस्था मे मिला । बच्चा का शव मिलते ही गावँ में कोहराम मच गया । लोगों के बीच दशहरा को लेकर तरह तरह तरह की टोटमा के बारे में चर्चाए होने लगी ।
लोगों के बीच बच्चे को मार कर घास की गही में घुसाने वालों की चर्चाए होने लगी ।

तभी परिजनों के द्वारा गावँ के ही सजनी देवी के बारे में चर्चाए होने लगी क्यों कि कुछ दिन पूर्व सजनी देवी से बच्चा की मां को अपने पति को लेकर विवाद हुआ था । सजनी देवी और मृत बच्चा के पिता के बीच प्रेम प्रसंग का मामला को लेकर पर पंचायती भी हुआ था जिसमे सजनी देवी को दंडित भी किया गया था । इसी बात को लेकर मृत बच्चा की मां और सजनी देवी के बीच अक्सर कहा सुनी होती रहती थी, जिसमे सजनी देवी के द्वारा कहा जाता था कि तुम्हारा बेटा को मैं खाँ जाऊंगी ।

- Sponsored -

- sponsored -

इसी शक के आधार पर परिजनों ने सजनी देवी को पकड़ कर पूछ ताछ करने लगे  जिसमे दवाब बनाने पर सजनी देवी ने बच्चा को मारने की बाते स्वीकारते हुए कहने लगी कि मैं बच्चा को मारी हूँ और मैं ही बच्चा भी लाकर दूँगी ।

इस बात पर परिजन एवं ग्रामीण भड़क उठा और सजनी देवी की पिटाई शुरू कर दी जिससे सजनी देवी अधमरा हो गई और बच्चा का परिजन एवं ग्रामीण ने जिंदा महिला सजनी देवी को बगल के ही पोखर के पास ले जाकर जिंदा जला दिया ।

इस प्रकार एक महिला को मृत बच्चा के परिजनों  एवं भीड़ ने जघन्य अपराध करते हुए निर्मम हत्या कर दी । यहीं नहीं साक्ष्य को छुपाने के लिए अधमरा महिला को जिंदा जला दिया ।
घटना की सूचना रानीगंज पुलिस को मिलते ही बेलगच्छी पहुँच कर मामले की छानबीन की  ।

स्थिति की गंभीरता को देखते हुए रानीगंज पुलिस के द्वारा इसकी सूचना वरीय पुलिस पदाधिकारी को भी दी गयी, और देखते ही देखते पूरा गावँ पुलिस छावनी में बदल गया ।

फिर से कोई घटना न घट जाय इसलिए गावँ में रानीगंज पुलिस के आलावे आरएस ओपी पुलिस, बौसी थाना पुलिस ने भी मोर्चा संभाल लिया ।
और वरीय पुलिस के पहल पर परिजनों को समझाते हुए मृत बच्चा के शव को कब्जे में ले कर पिस्टमॉर्टेम हेतु भेज दिया गया ।
बच्चे का पोस्टमॉर्टेम के बाद पुनः शव को परिजन के हवाले कर दिया गया ।
जहां बच्चा का अंतिम संस्कार परिजनों के द्वारा कर दिया गया ।
आपको बता दे कि जिंदा जलाया गए महिला का पति पंजाब में काम करता है और सजनी देवी को भी तीन छोटे छोटे बच्चे जिसमे तीन साल पांच साल एवं सात साल का है । माँ के बिना बच्चे का रो रो कर हाल बुरा है । जिसको पुलिस के द्वारा चौकीदार की निगरानी में गावँ में ही रखा गया है ।

अब सवाल ये उठता है कि सजनी देवी को कोई आंख से बच्चा को चुराते या मारते नहीं देखा था की सीधा तौर पर सजनी देवी को अपराधी माना जाता । यदि सजनी देवी अपराधी भी थी तो उसको सजा देना कानून का काम था । नकि गांव वाले एवं परिजन का ।
और एक अपराधी को परिजन एवं गावँ वाले मिल कर निर्मम हत्या करते हुए साक्ष्य को छुपाने के उद्देश्य से सजनी देवी को जिंदा जला कर बहुत बड़ा अपराध किया है । जो जघन्य अपराध की गिनती में आता है ।
वहीं इस घटना से रानीगंज पुलिस के ऊपर भी कई सवाल पैदा हौता है क्यों कि बच्चा चोरी की घटना सोमबार की रात को करीब आठ बजे घटती है, जो क्षेत्र में जंगल की आग की तरह फैल चुकी थी और महिला को आज मंगलवार को परिजन एवं ग्रामीण के द्वारा सुबह 6 बजे जिंदा जलाया जाता है । क्या इस बीच किसी भी प्रकार का भनक पुलिस को नहीं लगी थी । आखिर ग्रामीण चौकीदार कहाँ  थे ? यह बहुत बड़ा सवाल है ।
वहीं घटना के संबंध में रानीगंज थाना अध्यक्ष दिनेश प्रशाद यादव ने बताया कि मृत बच्चा का शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजन को सौप दिया गया है । महिला को मृत बच्चा का परिजनों ने ही मिलकर जलाया है, अतः उनकी पहचान कर कार्यवाही किया जाएगा । एवं सजनी देवी के बच्चों को स्थानीय चैकीदार के हवाले कर उनकी निगरानी में रखा गया है जब तक महिला का पति पंजाब से नहीं आता है तब तक महिला की बच्चों को निगरानी में रखा जाएगा ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored