Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
Breaking News
अनंत सिंह मामला : दर्जनों गाड़ियों से पुलिस का पीछा और पथराव, कई लोग हिरासत मेंसारण शूटआउट: दो स्कॉर्पियो पर सवार थे अपराधी, यूपी की ओर भागे!  शर्मनाक … जिसे शहीद कह हम इज्ज्त दे रहे है, उसी शहीद पुलिसकर्मी को लिटा दिया जमीन परबड़े घरों के बिगड़ैल बच्चे , पटना हाई कोर्ट के जज साहब को भी नहीं छोड़ा , DGP साहब को खुद आना पड़ाहाजीपुर में डकैतों से पुलिस का इनकाउंटर ,दो डकैतों को लगी गोली – गिरफ्तारधोनी के रिकॉर्ड की बराबरी करने से एक जीत दूर विराटभारतीय महिला हॉकी टीम फाइनल मेंसुब्रतो कप: सब-जूनियर अंडर-14 रिलायंस फाउंडेशन स्कूल ने झारखंड को 4-1 से पराजित कियाएलओसी पर पाकिस्तान की ओर से हुई गोलीबारी में शहीद हुआ बिहार का लाल रविरंजनछपरा : दरोगा और सिपाही शहीद, अपरधियों का तांडव

चमकी बीमारी से 10 बच्चों की मौत, सदर अस्पताल सहित किसी भी सरकारी अस्पताल मे इस बीमारी का ईलाज नहीं

34

- sponsored -

- Sponsored -

प्रमोद प्रभाकर ब्यूरो
समस्तीपुर। समस्तीपुर में मंगलवार को चमकी बुखार से 10 की मौत की खबर प्रकाश में आया है। लेकिन 6 कु पुष्टी की गयी है। जिले में चमकी बीमारी से बच्चे बीमार हो रहे है लेकिन इस बीमारी का ईलाज सदर अस्पताल के डॉक्टर के पास नहीं है। दुर्भाग्य यह है कि एक भी मृत बच्चे की इंट्री सदर अस्पताल के रजिस्टर पर नहीं मिलेगा। जबकि हर मरनेवाले बच्चों की सदर अस्पताल के डॉक्टर ने ईलाज किया है। यह दुर्भाग्य मरने वाले बच्चों का कहा जाये या फिर सदर अस्पताल के सिस्टम को कहा जाये। सदर अस्पताल में एक मौत के बाद दुसरा बच्चा पहुंच रहा डाक्टर आला निकाल चेक करते है आक्सीजन लगाते है या रेफर करते है या फिर मृत घोषित कर देते है। लोगों के बीच चर्चा है कि सदर अस्पताल का नाम बदल कर रेफर अस्पताल कर दिया जाय क्योंकि हर मरीज को यहाँ रेफर ही किया जाता है। चमकी बीमारी से बच्चे की मौत के बाद जब सीएस से सम्पर्क करने उनके कार्यालय जाया गया तो वो अपने कार्यालय में नहीं थे उसके बाद डीएस से मिला गया तो डीएस ने बातों को इधर से उधर घुमाने लगे। अस्पताल में डाक्टर ईलाज तो करना शुरु कर देते है लेकिन मिनटों बाद उसे फिर दूसरे अस्पताल रेफर कर देते है। आप खुद तस्वीर देख लिजिए चमकी बच्चे की ईलाज के दौरान मौत हो गया फिर भी अस्पताल के रजिस्टर पर मृत बच्चें का नाम नहीं मिलेगा इसे सिस्टम की गड़बड़ी नहीं कहेंगे तो और क्या कहा जायेगा। मंगलवार को सरायरंजन थाना क्षेत्र के बरुणा रसलपुर निवासी विनोद सहनी के पुत्र खेलते खेलते अचानक बेहोश होकर गिर गया आनन फानन में बच्चे को ईलाज के लिए पहले मुसरीघरारी स्थित डाक्टर विजय के पास लाया गया डाक्टर ने कहा इस बीमारी का ईलाज मेरे पास नहीं है सदर अस्पताल लेकर जाओ फिर वहां से सदर अस्पताल लाया गया जिसे डाक्टर हेमंत ने देखने के बाद मृत घोषित कर दिया। मृत की पहचान सरायरंजन थाना क्षेत्र के बरुणा रसलपुर निवासी विनोद सहनी के पुत्र रोशन कुमार (3) के रुप में किया गया है।, विभूतिपुर थाना क्षेत्र के सिरसी गाँव निवासी हरेराम यादव के पुत्र नीतीश कुमार (4) के रुप में किया गया है।, बिभूतिपुर थाना क्षेत्र के आलमपुर निवासी पप्पु दास के पुत्री विभा कुमारी (3) के रुप में किया गया है।, बिभूतिपुर थाना क्षेत्र के आलमपुर निवासी राम पुकार दास के पुत्र शिवम (10) के रुप में किया गया, है। मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के लगुनिया सुर्यकंठ निवासी सुबोध कुमार पासवान के पुत्र देवराज कुमार (2) के रुप में किया गया है।, और सोमवार को पूसा थाना क्षेत्र के माधोपुर छपरा निवासी राजेश पासवान की पुत्री अन्नु कुमारी (4) के रुप में पहचान किया गया है। इस चमकी बीमारी से आये दिन जिले में बच्चे बीमार हो रहे हैं। वहीं प्रशासन तमाशबीन बनकर सिर्फ मौत का तमाशा देखने में लगी हुई है।

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -