Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News

अवैध रूप से चल रहे पत्थर खदान को बंद करने की मांग

25

- sponsored -

- Sponsored -

मरकच्चो प्रखण्ड के ग्राम पंचायत नावाडीह के ग्रामीणों ने जिला सहायक खनन पदाधिकारी को आवेदन देकर पूर्णानगर पंचायत के खटोलिया में विगत कई वर्षों से अबैध रूप से चल रहे पत्थर खदान को बंद करने की मांग की है। ग्रामीणों ने आवेदन की प्रतिलिपि कोडरमा उपायुक्त , खनन बिभाग, मरकच्चो अंचलाधिकारी व नवलशाही थाना प्रभारी को भी दीया है। दिए गए आवेदन में ग्रामीणों ने बताया है, की मौजा पूर्णानगर में राम प्रसाद साव द्वारा खाता संख्या 104 पलौट संख्या 2797 ,2910 पर लगभग साढ़े पांच एकड़ जमीन पर खदान व चार अन्य खदानें अबैध रूप से चल रही है। यह खदानें गांव से मात्र 200 मिटर की दूरीपर है। और सभी खदानों की गहराई 300 फिट से अधिक पहुंच चुकी है। जिस वजह से आस पास का गांव काफी प्रभावित होरहा है। ब्लास्टिंग के कारण अधिकांश घरों के दीवाल में दरारें पड़ गई है। वहीं खदान में बैगन ड्रिल के द्वारा होरहे ब्लास्टिंग से गांव के अधिकांश चापाकलों के बोरिंग ध्वस्त हो गये हैं। जिसे लोगों के समक्छ पेयजल की गम्भीर समस्या बनी हुई है। वहीं अवैध रूप से चलरहे खदानों से हाइवा द्वारा अबैध रूप से पत्थरों की ढुलाई की जा रही है। जिसे सरकार को रोज लाखों रूपये का राजस्व का नुकसान होता ही है।

- sponsored -

- Sponsored -

साथ हीं आसपास का वातावरण भी काफी प्रदूशित हो गया है। जिसका बुरा असर लोगों के स्वास्थ्य पर भी पड़ रहा है। हाइवा के परिचालन से सड़कें भी पूरी तरह जर्जर होगई है। जिसे छात्र छात्राओं को विद्यालय आने जाने में भी काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। वहीं खदानों में हर दिन ब्लास्टिंग के कारण बच्चे भयभीत रहते हैं। ग्रामीणों ने विभागीय नियमावली के तहत जांच करते हुए कार्रवाई की मांग की है। बताया जाता है की इन खादानों में बगैर बेन्चिंग , फिनिसिंग,सुरक्छा का घेरा ,  निबंधित मजदूर व बिना कागजात का कई शक्तिमान वाहन परिचालन जैसे कई अनिमितता के कारण अबतक कई मजदूरों की मौत भी हो चुकी है। और खदान मालिकों के द्वारा चंद रूपये का मुआवजा देकर मामले का रफा दफा करने की आदत सी बनीहुई है।

आवेदन में मुखिया साकीर मियां, पंसस टुपलाल साव,अनुपम हलधर,बिनोद साव,हरिहर साव,बीरेंद्र यादव,हीरालाल साव,सुरेन्द्र राम,प्रकाश साव,अरुण साव,अजित बर्मा,रानी कुमारी,राखी कुमारी,नेपाली साव,मुकेश साव,उर्मिला देवी,कृष्णदेव बर्मा,शंकर महतो,रामदेव महतो,महेश दास,बिजय साव,संजय बर्मा,सन्दीप बर्मा,दिलीप बर्मा समेत सौ सेभी अधिक ग्रामीणों के हस्ताछर अंकित हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -