Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

मुंगेर – बिहार राज्य परिवहन विभाग के मुख्य भवन की स्थिति जर्जर

9

- sponsored -

- Sponsored -

मुंगेर – सरकार व जिला प्रसाशन बड़े हादसों का कर रही है इंतजार। 22 से 23 लाख रुएय हर महीने बिहार सरकार को आय देने वाले मुंगेर का बिहार राज्य परिवहन विभाग का जिले मुख्य भवन पिछले 7 -8 वर्षो जर्जर हो चूका ह भवन की हालत ये है कर्मचारी भगवान के भरोसे हर रोज कार्य करती है। हालत ये है की सारे दस्तावेज बारिश के कारण खराब हो चुके है। बारिश के मौषम में कर्मचारी छाता लगाकर काम करते है। कई बार यंहा के कर्मचारियों ने जर्जर भवन की शिकायत सरकार व जिला प्रसाशन से कर चुकी है। लेकिन अभी तक किसी ने नहीं सुध ली है।

- Sponsored -

- sponsored -

दरअसल मुंगेर जिला के शास्त्री नगर में अवस्थित बिहार राज्य परिवहन विभाग का कार्ययालय पिछले 7 -8 वर्षो से जर्जर अवस्था है। भवन की हालत यह है की चारो तरफ भवन में बड़े -बड़े पेड़ उग आये है वही भवन का प्लास्टर झर कर सरिया निकल आया। वैसे तो इस भवन में कुल 40 कर्मचारी कार्य करते है। बारिश के मौषम में अक्सर कर्मचारियों को जान जोखिम में डाल कर हर रोज काम करते है । भवन की हालत ये है की बारिश के मोषम में छतो से बारिशें का पानी टपकता है जिसके कारण कई कर्मचारी छाता लगाकर काम करते है जिससे की वो बारिश के पानी से बचे साथ ही सीलिंग का टुकड़ा उनके सर में ना गिरे। रोकड़पाल कर्मचारी निरजन कुमार का कहना है की बारिश के मौषम में भवन से पानी टपकता है जिसके कारण कार्य करने में काफी परेशानी होती है। वही जब ज्यादा बारिश होती है तो हमलोग भवन से बाहर चले जाते है कही भवन गिर ना जाये। वही एक अन्य सांखियक कर्मचारी विकाश कुमार बताते है की बारिश के मौषम में भवन का प्लास्टर गिरता है और कमरे में पानी जमा हो जाता है। हालत ये की हर रोज अधिकारियो को देने वाले रिपोर्ट तैयार करने वाले पेपर गीले हो जाते है। उन्होंने कहा कई कर्मचारी कार्य के दौरान घायल हुए।

प्रतिष्ठान अधीक्षक धमेंद्र कुमार सिंह बताते है की बारिश के मौषम में भवन में हमलोग काम कर पाते है जिसके कारण हमलोग बाहर काम करते है ,कई ऐसे कर्मचारी घरो में काम करते है। उन्होंने कहा की पिछले साल कई कर्मचारी बारिश के मौसम में भवन का प्लास्टर गिरने से घालय हो गए थे वही कई कर्मचारी अपने सर को व बारिश से बचाने के लिए कार्ययालय में छाता का उपयोग करते है। उन्होंने कहा की मुंगेर जिला में सरकार की 18 बसे चलती है और 22 से 23 लाख रूपये हर महीने इनकम देती है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -