Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News

आंगनबाड़ी सेविका को स्मार्ट बनाने की हुई शुरुआत

- sponsored -

नवादा जिले के आकाश होटल में बुधवार को 2280 आंगनवाडी सेविकाओं के मोबाइल में आईसीडीएस-केस(कॉमन एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर) एप्लीकेशन को इंस्टाल किया गया। साथ ही जिले के ब्लॉक के अकबरपुर हीसुआ एवं नारदीगंज सेविकाओं को इसके विषय में जानकारी भी दी गयी। यह प्रशिक्षण आगामी 15 मई से 20 मई तक चलायी जाएगी जिसमें जिले के अन्य ब्लॉकों के सेविकाओं को केस एप्लीकेशन पर जानकारी दी जाएगी। इस दौरान ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी आईसीडीएस रश्मि रंजन ने बताया कि इस एप्लीकेशन से आंगनवाड़ी सहायिका तकनीकी रूप से सक्षम हो पाएंगी। इस एप्लिकेशन को मोबाइल में डालने के बाद सहायिका को रजिस्टर संभालने से छुटकारा तो मिलेगा एवं इससे आईसीडीएस की अन्य गतिविधियों की मोनीटरिंग में भी आसानी हो जाएगी। यह एप्लिकेशन हमेशा अपडेट रहेगा जिससे कार्यक्रम कार्यान्वयन में विशेष मदद मिलेगी। 11 रजिस्टरों में 10 रजिस्टर ऑनलाइन होने से आंगनवाड़ी सेविकाओं को सेवा प्रदायगी पर अधिक ध्यान देने के लिए अतिरिक्त समय भी मिल पाएगा। उन्होंने बताया कि 15 मई से चयनित सेविकाओं के लिए खास प्रशिक्षण का आयोजन किया जाएगा। इसमें जिले के 159 चयनित सेविकाएँ और 42 पर्यवेक्षिका हिस्सा लेंगे।

- sponsored -

- sponsored -

Middle Post Content Mobile 320X100

एप्लीकेशन से होगी बेहतर निगरानी

प्रशिक्षण में बताया गया कि आईसीडीएस-केस एप्लीकेशन से आईसीडीएस सेवाओं की ऑनलाइन एंट्री शुरू होगी जिससे प्रदान की जाने वाली सेवाओं के कुशल प्रबंधन के साथ उन सेवाओं की ब्लॉक, जिला एवं राज्य स्तर पर बेहतर निगरानी सुनिश्चित करने में आसानी होगी। इससे प्रदान की जाने वाली सेवाओं को सशक्त करने में मदद तो मिलेगी ही साथ में पोषाहार परिणामों की रियल टाइम मॉनिटरिंग भी की जा सकेगी। सेविकाओं को आईसीडीएस-केस एप्लीकेशन को प्रभावी रूप से संचालित किये जाने के लिए राज्य, जिला एवं ब्लॉक स्तर पर बनाये गए हेल्पडेस्क के बारे में जानकारी दी गयी। जिनका मुख्य कार्य स्मार्टफोन की उपलब्धता एवं इसके रख-रखाव को सुनिश्चित करना, समस्या प्रबंधन की निगरानी के लिए इशू ट्रैकर रिपोर्ट की नियमित निगरानी एवं समीक्षा करना, आईसीडीएस-केस डैश बोर्ड से डाटा समीक्षा करना एवं एप्लीकेशन इस्तेमाल को हर स्तर पर सुनिश्चित कराना है। साथ ही यह भी बताया गया कि राज्य हेल्पडेस्क को एप्लीकेशन संचालन प्रबंधन में सहायता प्रदान करने एवं जिला हेल्पडेस्क द्वारा उठाये गए मुद्दे को इशू-ट्रैकर के माध्यम से सुलझाने के लिए मुश्किलें दूर करने वाला (ट्रबलशूटिंग मैन्युअल) विकसित किया गया है। मौके पर ज़िला कोरडीनटोर ज़िला कार्यक्रम सहायक, ब्लॉक कोरडीनटोर, सभी सीडीपी ओ मौजूद थे।

Befor Author Box Desktop 640X165
Before Author Box 300X250
After Related Post Desktop 640X165
After Related Post Mobile 300X250