सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

आर्थिक पैकेज से दुगनी गति से बढ़ेगी भारत की अर्थव्यवस्था: संजय जायसवाल, बीजेपी अध्यक्ष, बिहार

- Sponsored -

पटना, मई 18, 2020: केंद्र सरकार द्वारा कोरोना संकट से निपटने के लिए दिए गये 20 लाख करोड़ के पैकेज को सही समय पर लिया गया सही कदम बताते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने कहा “ प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र सरकार आज कोरोना से 130 करोड़ नागरिकों तथा देश की अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए दो मोर्चों पर लगातार लड़ाई लड़ रही है. अभी तक इस जंग में देश ने अभूतपूर्व प्रदर्शन किया है जिसकी प्रशंसा आज पूरा विश्व कर रहा है. प्रधानमन्त्री जी की दूरदर्शिता से केंद्र ने इस आपदा को भी अवसर में बदल दिया है. केंद्र द्वारा जारी पैकेज में ऐसा कोई सेक्टर नहीं बचा, जिसे राहत प्रदान न किया गया हो. सरकार ने गांव, गरीब, मजदूरों, किसानों, छात्रों, अभिभावकों, युवाओं, व्यवसायियों सभी का ख्याल रखने के साथ-साथ डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग में FDI को बढ़ा कर 74% करने, कोयला क्षेत्र के विकास पर 50 हजार करोड़ खर्च करने तथा कमर्शियल माइनिंग की अनुमति देने, परमाणु तथा अन्तरिक्ष क्षेत्र में निजी कंपनियों को जगह देने और लोगों को स्वदेशी उत्पादन व प्रयोग के लिए प्रोत्साहित करने जैसे कुछ ऐसे कदम उठाये हैं जिससे आने वाले वर्षों में भारत की सूरत पूरी तरह बदल जाने की उम्मीद है. गौरतलब हो कि भारत विश्व के सबसे बड़े बाजारों में से एक है, जिसके लिए पूरी दुनिया की कंपनियों की निगाहें यहाँ टिकी रहती हैं. अभी की स्थिति में विदेश निर्मित उत्पादों के कारण देश का हजारों करोड़ रूपये दुसरे देशों में चले जाते हैं, दुसरे भारतीय उद्योग पूरी तरह से फल-फूल नहीं पाते हैं. लेकिन कोरोना संकट के कारण भारत समेत अधिकांश मुल्कों में लॉकडाउन चल रहा है, कंपनियों पर ताले लटके हुए हैं, उत्पादन की दर भी काफी धीमी है. यदि ऐसे समय में योजनाबद्ध तरीके से सार्थक कदम उठाये जाएं तो कोरोना बाद की दुनिया में भारत की विकास दर दुगनी गति से बढ़ेगी और भारत को एक आर्थिक महाशक्ति बनने से कोई नहीं रोक सकता. प्रधानमन्त्री जी का आत्मनिर्भर बनने का मन्त्र इसी की तरफ इशारा करता है. पैकेज के तहत जिस तरह उद्योग-धंधो को शक्ति प्रदान की गयी है, उससे गांव-गांव में लघु उद्योगों का जाल बिछेगा. किसान समृद्ध होंगे, जिससे आम आदमी की क्रय शक्ति बढ़ेगी, जिससे डिमांड बढ़ेगा और सप्लाई देने वाले बिजनेस और सशक्त होंगे. न केवल देश का पैसा देश में रहेगा बल्कि स्वदेशी वस्तुओं का निर्यात कर दुसरे देशों के पैसे भी भारत में आयेंगे. संकट के समय ऐसा प्रदर्शन मोदी सरकार ही कर सकती है.”

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored