सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

गला कटने के बाद डेढ़ घंटे तड़पती रहीं लहूलुहान डॉक्टर, बेटे-बेटी की ऐसे बच जान… |

- Sponsored -

आगरा : आगरा के कमलानगर की पॉश कॉलोनी कावेरी कुंज में दंत चिकित्सक निशा सिंघल हत्याकांड ने सबको दहला दिया। आरोपी शिवम ने बड़ी ही बेरहमी से इस वारदात को अंजाम दिया था। हत्यारे ने घर में घुसने के थोड़ी देर बाद ही डॉ. निशा की गर्दन चाकू से रेत दी थी। इसके बाद वह घंटे भर घर के अंदर ही चाकू लेकर घूमता रहा। वहीं निशा करीब डेढ़ घंटे तक खून से लथपथ तड़पते रही। उसने इसी हालत में अपने पति अजय सिंघल को फोन किया। जब तक वह पहुंचे। तब तक निशा का काफी खून बह चुका था। वह निशा और घायल बच्चों को अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने निशा को मृत घोषित कर दिया।

क्या है पूरी घटना

जानकारी के मुताबिक, कावेरी कुंज कॉलोनी में शुक्रवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे टीवी रिचार्ज करने के बहाने से आए युवक ने दंत रोग चिकित्सक निशा सिंघल (38) की चाकू से गर्दन रेतकर हत्या कर दी गई थी। उसने डॉक्टर की बेटी एमिशा (8) और बेटे अद्वय (4) को भी गर्दन पर चाकू मारकर घायल कर दिया। सामने वाले घर में लगे सीसीटीवी की फुटेज से आरोपी की पहचान ट्रांस यमुना कॉलोनी निवासी शिवम पाठक के रूप में हुई। पुलिस ने रात 12:30 बजे उसे कालिंदी विहार 100 फुटा रोड पर मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने मृतका के घर के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज से उसकी पहचान हुई।

- Sponsored -

केवल रिचार्ज कराने के बहाने घर में घूसा

दिल दहला देने वाली इस वारदात को चिकित्सक निशा के बच्चों ने दूसरे कमरे से अपनी आंखों से देखा। मृतक चिकित्सक के बच्चों ने बताया कि अंकल (आरोपी) चार दिन से फोन कर रहे थे। कह रहे थे कि रिचार्ज खत्म होने वाला है, दिक्कत आएगी। मां को दिन में समय नहीं मिलता था। मरीज देखने में व्यस्त रहती थीं। पापा भी अस्पताल चले जाते थे। मां ने कहा था कि जब वह घर पर होंगी और उनके पास समय होगा तो फोन कर लेंगी। इससे माना जा रहा है कि आरोपी ने कई दिन पहले ही इस वारदात की साजिश रची थी।

बेहोशी का नाटक कर बचाई अपनी और भाई की जान

आरोपी ने निशा सिंघल की हत्या के बाद आरोपी ने उनके बच्चों को भी मारने की कोशिश की। डॉ. निशा की आठ वर्षीय बेटी एनिशा ने बताया कि मां का गला रेतने के बाद जब युवक उनके कमरे में आया तो वह बुरी तरह सहम गई। उसका भाई अद्वय रोने लगा था। उसे लगा कि हत्यारा दोनों को नहीं छोड़ेगा। उसने उसकी गर्दन पर चाकू रख दिया और दबाव डाला। उसे बहुत दर्द हुआ और वह गिर पड़ी। इसके बाद उसने बेहोश होने का नाटक किया ताकि हत्यारा चला जाए। उसने भाई को भी इशारे से समझाया और फर्श पर पड़ी रही। जिसके बाद हत्यारा दोनों को मृत समझ कर वहां से चला गया।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored