सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

गीत

- Sponsored -

डॉ आरती कुमारी
सावन में लायी राखी त्योहार पूर्णिमा
भइया के माथे सजती रोली की लालिमा।

स्नेहसूत्र में बंधकर भइया करते कितने जतन
बहना बांधे प्यार की रेशम डोर से क्या-क्या मन
मिटे द्वेष दु:ख दर्द तपन जीवन से कालिमा
भइया के माथे सजती रोली की लालिमा।

बचपन तू यादों के सहारे लौट के आजा ना
ओ बादल मेरे भइया को राखी पहुंचाना
घर के बाहर कोरोना है रोके जालिमा
भइया के माथे सजती रोली की लालिमा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored