सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

तानाशाही और शोषणमुक्त लोकतंत्र

- sponsored -

भरत झुनझुनवाला
इस समय चीन की तानाशाही के विरुद्ध सम्पूर्ण विश्व लामबंद होता दिख रहा है। चीन द्वारा हांगकांग में लोकतंत्र को कुचला जा रहा है। आज से लगभग 30 वर्ष पूर्व चीन ने थियानमेन स्क्वेयर में भी लोकतांत्रिक आवाज को बेरहमी से कुचला था। इसमें कोई संशय नहीं है कि पश्चिमी देशों द्वारा लोकतंत्र को अपनाये जाने से मानव विकास को गति मिली है। लोकतंत्र में हर नागरिक को खुलापन मिलता है और वह अपनी सृजनात्मक शक्ति का उपयोग कर सकता है। जैसे जेम्स वाट द्वारा स्टीम इंजन को बनाया जाना अथवा बिलगेट्स द्वारा विंडोस साफ्टवेयर को बनाया जाना।इसी क्रम में हम देखते हैं कि अमेरिकी लोकतंत्र ने पिछली शताब्दी में एटम बम, जेट इंजन, इंटरनेट जैसे आविष्कार किये क्योंकि उसने अपने नागरिकों को लोकतांत्रिक खुलापन उपलब्ध कराया। सच है कि रूस और चीन द्वारा तमाम आधुनिक उपकरण बनाये गये हैं लेकिन मूल रूप से नया सृजन तो लोकतांत्रिक व्यवस्था के अंतर्गत ही हुआ है। रूस और चीन ने मुख्यत: पश्चिमी देशों द्वारा किये गये आविष्कारों की नकल करने में सफलता मात्र हासिल की है। साथ-साथ यह भी देखा जाता है कि लम्बे समय तक लोकतांत्रिक व्यवस्था तभी सफल होती है जब वह दूसरे देशों का शोषण करे। वर्तमान युग में लोकतंत्र की शुरूआत यूनान में आज से लगभग 2500 वर्ष पूर्व हुई थी। यूनान के लोगों ने लोहे का आविष्कार किया था। उन्होंने लोहे के अस्त्रों के बल पर अपने पड़ोसियों को लूटा और उस लूट से मिली समृद्धि के बल पर वे लोग लम्बी-लम्बी लोकतांत्रिक चचार्एं करने का आर्थिक बोझ वहन कर सके थे। उनके लिए लम्बे समय तक चर्चा में लगे रहना इसलिए संभव था क्योंकि उनके पास लूट की रकम उपलब्ध थी, जिससे भोजन इत्यादि आसानी से मिल जाता था। लेकिन शीघ्र ही लूटने लायक पड़ोसी लोग नहीं बचे, लूट की रकम उपलब्ध नहीं हुई और लम्बी लोकतांत्रिक चचार्एं स्वत: ध्वस्त हो गईं। यूनान का लोकतंत्र समाप्त हो गया।इसके बाद रोम में लोकतंत्र का उदय हुआ। उन लोगों ने घुड़सवार को लोहे के कवच उपलब्ध कराए और इस अस्त्र के बल पर उन्होंने बड़े क्षेत्र में दूसरों को लूटा। पुन: लूट से लाई रकम से उन लोगों ने अपने देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था लागू की। जैसे ही लूटने के लिए दूसरे देश उपलब्ध नहीं रहे, रोम का लोकतंत्र टुकड़े-टुकड़े हो गया।लोकतंत्र का उदय पुन: मध्य युग में हुआ। यह वही समय है जब इंग्लैंड ने भारत जैसे तमाम देशों को अपना उपनिवेश बना लिया था। इंग्लैंड में बना महंगा माल उपनिवेशों को बेचकर, एवं उपनिवेशों के घरेलू उद्योगों को नष्ट कर इंग्लैंड ने भारी समृद्धि हासिल की थी। आज से 200 वर्ष पूर्व विश्व की आय में भारत का हिस्सा लगभग 23 प्रतिशत था जो इंग्लैंड के शासन के अंत में यानी 1947 में घटकर मात्र 2 प्रतिशत रह गया था। इससे स्पष्ट होता है कि इंग्लैंड में जिस समय लोकतंत्र का सूर्योदय हुआ था, उसी समय भारत में गरीबी का भारी विस्तार हुआ था।हमारी गरीबी से जनित इस समृद्धि के बल पर इंग्लैंड ने अपने श्रमिकों को राहत पहुंचाई। जैसे फैक्टरी एक्ट लागू किया और लोकतंत्र को संभालकर रखा। इंग्लैंड की परिस्थिति का विवरण हमें मार्क्स के सहयोगी एंगल्स के उस वाक्य में मिलता है जो उन्होंने रूसी कम्युनिस्ट कौत्स्की को लिखे एक पत्र में लिखा था। एंगल्स ने लिखा कि ह्यइंग्लैंड के श्रमिक इंग्लैंड के विश्व बाजार पर एकाधिकार के भोज का आनंद उठा रहे हैं।ह्ण यानी इंग्लैंड के श्रमिक शोषित नहीं बल्कि अपनी लोकतांत्रिक सरकार द्वारा भारत जैसे दूसरे देशों के शोषण से अर्जित रकम में अपना हिस्सा पाकर प्रसन्न थे। इंग्लैंड के नेताओं और श्रमिकों ने आपसी मेलजोल से उपनिवेशों को लूटा और उन उपनिवेशों से मिली रकम के आधार पर अपने लोकतंत्र को पोसा।आधुनिक समय में अमेरिका ने अफ्रीका से दासों को लाकर समृद्धि हासिल की और इराक जैसे देशों पर आक्रमण कर उनके संसाधनों को हासिल किया। विश्व व्यापार संगठन में पेटेंट एक्ट को जोड़कर तमाम गरीब देशों को महंगी तकनीकें बेच कर अपनी समृद्धि बनाई, इत्यादि। इस लूट के बल पर वहां लोकतंत्र चल रहा है। संभवत: भारत में बौद्ध काल में लोकतंत्र के ज्यादा समय तक न टिक पाने का यही कारण था कि हम दूसरे देशों की लूट नहीं करते थे। अत: हम देखते हैं कि लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं 100-200 वर्ष से अधिक नहीं चली हैं। जब तक वे चली हैं, उनका आधार दूसरे देशों का शोषण था। यानी समृद्ध देशों में लोकतंत्र और गरीब देशों की गरीबी एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।ऐसे में गरीब देशों द्वारा लोकतंत्र को अपनाना सफल नहीं हो रहा है जैसा कि फिलिपीन्स के फर्डिनांड मार्कोस, यूगांडा के ईदी अमीन और वर्तमान में बेलारूस में लुशिनको जैसे तमाम शासक हुए हैं जो कि लोकतंत्र के आडम्बर में अपने लोगों का शोषण कर रहे हैं। लेकिन जिस प्रकार इंग्लैंड के वायसराय ने कुछ लोगों को राय बहादुर की उपाधि देकर उन्हें अपने पक्ष में किया था, उसी प्रकार अमेरिका भारत जैसे देशों के तमाम नेताओं को अपने पक्ष में कर रहा है। इन देशों में लोकतंत्र का वास्तविक चरित्र सिर्फ इतना हो गया है कि अमीर देशों द्वारा किये जा रहे शोषण को लोकतंत्र की चादर के पीछे छुपा दिया जाये।इस परिप्रेक्ष्य में लोकतंत्र और तानाशाही दोनों में संकट दिखता है। लोकतंत्र में घरेलू खुलापन मिलता है जो कि मानव सभ्यता के लिए लाभप्रद होता है, लेकिन साथ में निश्चित रूप में दूसरे देशों का शोषण होता है। इसके विपरीत तानाशाही दोनों तरह से चलती है—विकास एवं ह्रास। तानाशाही में देश का विकास हो सकता है जैसा कि स्टालिन के समय रूस अथवा वर्तमान में चीन में हम देख रहे हैं। चीन लोकतंत्र को कुचल कर आज विश्व की नम्बर 2 अर्थव्यवस्था बन गया है। निश्चित रूप से आर्थिक विकास हुआ है। इसके विपरीत तानाशाही में ह्रास के भी तमाम उदाहरण मिलते हैं जैसे शाही रूस में। अत: निष्कर्ष निकलता है कि लोकतंत्र निश्चित रूप से शोषण पर आधारित है जबकि तानाशाही में दोनों संभावनाएं बनती हैं। दूसरी तरफ लोकतंत्र के खुलेपन से मानव सभ्यता का विकास होता है जबकि तानाशाही में ऐसे विकास के प्रमाण अब तक कम ही मिले हैं।
हमें चाहिए कि हम इस पर विचार करें कि हम लोकतंत्र के खुलेपन के साथ दूसरे देशों के शोषण से विरत कैसे हों। यदि हम यह फामूर्ला नहीं निकाल सकते हैं तो हम लोकतंत्र को अपनाकर सफल नहीं होंगे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored