Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

Looks like you have blocked notifications!

प्रदीप-बंधु की इंट्री पर झारखंड कांग्रेस में बवाल, इरफान ने खोला मोर्चा

9

- Sponsored -

- sponsored -

रांची : पोड़ैया हाटा के विधायक और झारखंड विकास मोर्चा के नेता प्रदीप यादव और बंधु तिर्की के कांग्रेस में शामिल होते ही झारखंड कांग्रेस में बवाल खड़ा हो गया है। शामिल होने के तुरंत बाद कांग्रेस के नेता एवं जामतारा के विधायक इरफान अंसारी ने कहा कि रिजेक्टेड माल के लिए हमारी पार्टी में कोई जगह नहीं है।

बता दें कि झारखंड विकास मोर्चा से निष्कासित विधायक बंधु तिर्की और विधानसभा में झाविमो विधायक दल के नेता प्रदीप यादव कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। दोनों नेताओं को लेकर नई दिल्ली में पार्टी के प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। यहां उनके कांग्रेस में शामिल होने पर सहमति पहले ही दी जा चुकी थी।

- Sponsored -

- sponsored -

कुछ दिनों बाद झारखंड में औपचारिक तौर पर दोनों को पार्टी में शामिल कराया जाएगा। विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की का नई दिल्ली में स्वागत तो किया गया, लेकिन झारखंड में विरोध की चिंगारी सुलग गई है। प्रदेश नेतृत्व विचार नहीं लिए जाने से नाराज है तो विधायक इरफान अंसारी ने मोर्चा खोल दिया है। प्रदीप यादव पर टिप्पणी करते हुए अंसारी ने कहा कि झाविमो के रिजेक्टेड माल को कांग्रेस में लाने की कोई जरूरत नहीं थी। इन्हें भाजपा ने भी ठुकरा दिया है।

गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह के साथ झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) के दोनों नेताओं की कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात हुई। कांग्रेस सूत्रों के अनुसार शीघ्र ही इन्हें झारखंड कांग्रेस में शामिल कराया जा सकता है। दोनों को पार्टी में शामिल कराने के लिए सहमति मिलने के बाद ही यह मुलाकात हुई है। चर्चा है कि इन्हें पार्टी अथवा सरकार में शीघ्र ही कोई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी जा सकती है।

झारखंड विकास मोर्चा के भाजपा में विलय की कवायद चल रही है और पार्टी प्रमुख बाबूलाल मरांडी का इस मुद्दे पर दोनों विधायकों से मनमुटाव चल रहा था। इस क्रम में बंधु तिर्की को तो पार्टी से निकाल ही दिया गया था। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ विलय को लेकर किसी प्रकार की कवायद पर दोनों नेताओं ने बार-बार अलग-अलग स्तरों पर विरोध दर्ज कराया था।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored