सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

बंगाल में भाजपा को फायदा होगा!

बंगाल सरकार पर आंकड़ों का छुपाने आरोप लग रहा है, बद इंतजामी के वजह से कोरोनावायरस से मौत की औसत देश, दुनिया में सबसे ज्यादा है देश में जहां 4.5% है पूरी दुनिया में 5.5% है और बंगाल में 12.1 है, बंगाल सरकार ने 3 मई को कुल मौत की संख्या 33 बताएं 4 मई को 35 बताया और इसके बाद अचानक 5 मई को कोरोना से मौत की संख्या 135 बताया, इस तरह के आंकड़े देने से केंद्रीय टीम ने आंकड़ों छुपाने का आरोप लगाया है। इस तरह कोरोना वायरस के मामले में बंगाल सरकार घिरती जा रही है

- Sponsored -

कोरोना वायरस का संक्रमण क्या पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को भारी पड़ जाएगा? वैसे तो कोरोना वायरस को लेकर जैसे ही किसी पार्टी का नेता कोई सवाल उठाता है, भारतीय जनता पार्टी के नेता, प्रवक्ता और मीडिया सब कहने लगते हैं कि देखिए अमुक नेता या पार्टी इस संकट में भी राजनीति कर रहे हैं। पर खुद भाजपा इस संकट का राजनीतिक फायदा लेने के सारे उपाय कर रही है। मध्य प्रदेश से लेकर गुजरात तक में लोगों ने इसे देखा है और अब पश्चिम बंगाल में दिख रहा है। केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी लगातार पश्चिम बंगाल सरकार को कठघरे में खड़ा कर रहे हैं। मुंबई के अलावा देश में दो सबसे बड़े इपीसेंटर उभरे हैं। एक अहमदाबाद है और दूसरा इंदौर। इन दो शहरों में संक्रमण भी तेजी से बढ़ा है और मरने वालों की संख्या भी। पर केंद्र सरकार की अंतर मंत्रालयी समिति का निशाना पश्चिम बंगाल है।

बार बार समिति की ओर से कहा जा रहा है कि पश्चिम बंगाल में जांच नहीं हो रही है या गलत जांच हो रही है, मरीजों की संख्या छिपाई जा रही है, मरने वालों को दूसरी श्रेणी में डाला जा रहा है और केंद्र सरकार की ओर से दिए गए निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। यह हो सकता है कि बंगाल में हो रहा हो पर हो सकता है कि ऐसा हर राज्य में हो रहा हो। बिहार में भी कम संख्या नहीं छिपाई जा रही है और वहां भी जांच भगवान भरोसे है। पर बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को अक्षम साबित करना है ताकि अगले साल होने वाले चुनाव में उनको इसका नुकसान हो।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -