सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

बड़ा खुलासा, पुनई कर रहा है अखिलेश की जगह पीएलएफआई का काम

- Sponsored -

रांची : रातू में हुये इम्तियाज अंसारी की हत्या के मामले का पुलिस ने खुलासा करने का दावा किया है। इम्तियाज की हत्या कुख्यात पुनई उरांव के इशारे पर की गयी थी। इम्तियाज के अलावा पिछले दिनों मांडर में झामुमो नेता सुबोध तिवारी को भी पुनई के इशारे पर ही मारा गया था। पुनई का संबंध पीएलएफआई से है।

अखिलेश गोप की गिरफ्तारी के बाद इस इलाके में पीएलएफआई का नाम पुनई उरांव ही संभाले हुए है। पुनई के नाम पर ही नगड़ी, रातू, मांडर आदि इलाकों में रंगदारी (लेवी) वसूला जा रहा है और लोगों को धमकाया जा रहा है। इम्तियाज के साथ एक मोटी राशि को लेकर मनमुटाव हुआ था। इस कांड में पुलिस ने शूटर सहित तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया था। इसके पास से पुलिस ने घटना में प्रयुक्त हथियार भी बरामद कर लिया है। बुधवार को पुलिस ने तीनों अभियुक्तों को कोर्ट में प्रस्तुत किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

इम्तियाज हत्याकांड में जेल भेजे गये अभियुक्तों में न्यू मधुकम स्थित छोटानागपुर कॉवेंट के समीप का आकाश खलखो उर्फ आकाश लिंडा उर्फ चडा, कांके के बोड़ेया का आसिफ अली और नरकोपी के तुतलो गांव का राजकुमार उरांव शामिल है। ग्रामीण एसपी ऋषभ कुमार झा ने पुनई की गिरफ्तारी के लिए पुलिस प्रयासरत है। पुलिस की अलग-अलग टीम लगातार छापेमारी कर रही है। इम्तियाज के अलावा सुबोध तिवारी को भी गिरफ्तार आकाश लिंडा ने ही गोली मारी थी। आकाश लिंडा कुख्यात पुनई के लिए शूटर का काम कर रहा था।

- Sponsored -

आकाश की गिरफ्तारी पुलिस के लिए बड़ी सफलता है। उस पर पहले से नगड़ी थाने में तीन मुकदमा दर्ज है। इसमें हत्या का भी एक मामला शामिल है। आकाश और उसके सहयोगियों के पास से पुलिस ने दो पिस्टल, एक रिवाल्वर और एक कट्टा के अलावा 6 कारतूस भी बरामद किया है।

वारदात को अंजाम देने में प्रयुक्त दो बाइक को भी पुलिस ने बरामद किया है। मालूम हो कि एड़चोरो निवासी इम्तयाज की पत्नी प्रमिला मिंज उर्फ शाहीन परवीन ने जमीन विवाद का मामला बताते हुए नयासराय के आजाद अंसारी, नगड़ी के अलीम अंसारी और पांच अन्य अज्ञात के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया था। छापेमारी दल में डीएसपी विकास आनंद लांगुरी, पुनि ज्ञान रंजन कुमार, मांडर थानेदार राणा जंग बहादुर, पुअनि शंकर दयाल सिंह, परि. पुअनि रविशंकर, राहुल कुमार दसौंदी, किरण कुमार लेंका, पिंटु कुमार, आरक्षी देवराज राम, कृपाशंकर तिवारी व सशस्त्र बल के अन्य जवान शामिल थे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -