सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

विदेशी फल लौंगन की नई किस्म का विकास

- sponsored -

नयी दिल्ली 12 जुलाई ( सन्मार्ग) वैज्ञानिकों ने देश में पहली बार लीची जैसे स्वादिष्ट विदेशी फल लौंगन की एक किस्म का विकास कर लिया है जो न केवल रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है बल्कि कैंसर रोधी के साथ-साथ विटामिन सी और प्रोटीन से भरपूर भी है ।

राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केन्द्र मुज़फ़्फ़रपुर के वैज्ञानिकों ने लगभग एक दशक के अनुसंधान के बाद लौंगन की गंडकी उदय किस्म का विकास किया है । लीची परिवार का यह फल चीन , मलेशिया , थाईलैंड आदि में पाया जाता है ।

- Sponsored -

लीची अनुसंधान केन्द्र के निदेशक विशाल नाथ ने बताया कि लीची के मौसम के बाद लोग लौंगन के फल का मजा ले सकेंगे । यह रसीला होता है और इसका स्वाद लीची से मिलता जुलता है । इसका फल अगस्त में पक कर तैयार हो जाता है जबकि लीची की फसल इससे पहले समाप्त हो जाती है ।

डॉ. विशाल नाथ ने बताया कि लौंगन का फल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही कैंसर रोधी गुणों वाला है । इसमें भरपूर मात्र में विटामिन सी के साथ ही प्रोटीन , ओमेगा 3 और ओमेगा 6 भी पाया जाता है । इसमें कार्बोहाइड्रेट , केरोटीन ,फाइबर , थाइमिन और कुछ अन्य तत्व भी पाए जाते हैं ।

लौंगन का पेड़ लीची की तरह का होता है और यह लगाने के दो साल बाद ही फलने लगता है । इसके एक वयस्क पेड़ में डेढ़ से दो क्विंटल तक फल लगते हैं । इसका फल लीची से भी मीठा होता है । इसकी मिठास 22 से 25 डिग्री टीएसएस होती है । इसका फल गुच्छों में फैलता है । इसके एक फल का वजन 10 से 14 ग्राम तक होता है । केन्द्र में इसके 17 ग्राम तक के फल लिए गए हैं ।

डॉ. विशाल नाथ के अनुसार लौंगन के फल का 65 प्रतिशत हिस्सा खाने योग्य होता है । शेष हिस्सा छिलका और बीज का होता है । पकने पर इसके छिलके का रंग भूरा होता है जिसे पीला बनाने का प्रयास चल रहा है । इसका रंग बदलने पर आकर्षण बढ़ेगा और किसानों को बेहतर मूल्य मिलेगा । इसमें खटास- मिठास अनुपात बहुत ही संतुलित है जिसके कारण इसका स्वाद और बढ़ जाता है ।

बिहार की जमीन और यहां की जलवायु लौंगन की खेती के अनुकूल है । इसके फल की लीची के समान या उससे भी अधिक कीमत मिलने की संभावना है । इसके कई अन्य किस्मों को विकसित करने के प्रयास चल रहे हैं ।

अरुण, यामिनी

सन्मार्ग

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -