सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

विरोधी दल से देश विरोधी होती कांग्रेस

- Sponsored -

रकार चाहे किसी भी दल की हो, उसे अच्छी तरह देश चलाने के लिए बाध्य करने के साथ भटकने से रोकना और निरंकुश नहीं होने देने का काम विपक्षी दल का होता है। हालांकि, 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से देश में मुख्य वि΄ाक्षी दल कांग्रेस को वि΄ाक्षी दल की बजाय विरोधी दल कहना ज्यादा उचित होगा, इसमें किसी निष्पक्ष व्यक्ति को संदेह नहीं हो सकता। यदि यहां तक भी कांग्रेस अपने आपको रोक पाती तो देश, जनता और खुद कांग्रेस के लिए थोड़ी राहत की बात हो सकती थी, क्योंकि तब अपनी गलतियों को सुधार कर सुधरने की गुंजाइश बनी रहती। दुर्भाग्य से कांग्रेस इसमें पूरी तरह असफल रही। कांग्रेस ने इस दौरान विरोधी दल से कहीं आगे जाकर देशहित की राजनीति और जिम्मेवार राजनीतिक दल की मर्यादा के विरुद्ध जाती सारी हदों को पार करते हुए बेहद नकारात्मक और षडयंत्रकारी राजनीति कर खुद को देश विरोधी दल के रूप में स्था΄िात कर लिया है। संभव है कि इस बात से वह या उसके बचे-खुचे कुछ समर्थक सहमत ना हों, तो उन्हें भी समय रहते इस सच को समझ लेने की जरूरत है। वि΄ाक्षी दल की भूमिका सरकार की गलत नीतियों, योजनाओं और कार्यों का विरोध करने और उनसे देश को बचाने के हर संभव प्रयास करने की होती है, पर यह विरोध किसी भी स्थिति में संविधान और कानून व्यवस्था के दायरे से बाहर जाकर नहीं होना चाहिए। यह भी जरूरी है कि कोई भी वि΄ाक्षी दल सत्ताधारी दल द्वारा किये जा रहे अच्छे काम और ΄ा्रयास में उसका समर्थन करे। ऐसा करने से जनता के बीच उसकी विश्वसनीयता बनी रहती है। बढ़ती है। कभी-कभी ऐसा नहीं करने में यह संभव है कि वि΄ाक्षी दल का उसी काम को करने का नियम, नजरिया और सलीका थोड़ा अलग हो, इस स्थिति में उसको अ΄ाना सही तरीका बताते हुए सरकार के काम करने के तरीके ΄ार सवाल उठाये जा सकते हैं। ΄ार, बात या काम जब राष्टÑीय हित, सुरक्षा और संकट की हो, तो किसी भी स्थिति में सार्वजनिक तौर ΄ार विरोध करना बिल्कुल गलत होने के साथ वह उसका राष्टÑ विरोधी कृत्य हो जाता है, जिसे किसी भी स्थिति में ना तो सही कहा जा सकता है और ना ही स्वीकार किया जा सकता है। 2014 में सत्ता से बेदखल होने के बाद कांग्रेस ऐसा राष्टÑीय अ΄ाराध लगातार कर रही है, जो अब अधिकांश भारतीय जनता के लिए असहनीय स्थिति हो गयी है। आश्चर्य कि बात यह है कि कांग्रेस की इसी बदनीयती और देश विरोधी राजनीति के कारण 2019 लोकसभा चुनाव में भी जनता द्वारा उसे सिरे से नकार दिये जाने के बावजूद उसकी राजनीतिक दशा और दिशा में कोई सुधार होता नहीं दिखता। ΄िाछले तीन-चार वर्षों में जिस तरह कांग्रेस ने केंद्र सरकार का विरोध करते हुए खुद को देश विरोधी बना लिया है, बेहद चिंताजनक है। मोदी सरकार के द्वारा देशहित में की गयी नोटबंदी और व्या΄ाार सुधार के लिए जीएसटी लागू करने जैसे काम का विरोध तो फिर भी कुछ कमियों और भूल के लिए सहा जा सकता था, ΄ार ΄ााकिस्तानी आतंकवादियों ΄ार की गयी सर्जिकल स्ट्राइक के बाद सेना और सरकार ΄ार सवाल उठाना और उसके सबूत मांगना, कश्मीर से धारा 370 हटाने का विरोध करना, नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ जाते हुए विरोध के लिए जनता को आंदोलन के लिए उकसाना और अब चीन के द्वारा देश की सीमा का अतिक्रमण करने के षडयंत्रकारी ΄ा्रयास के तहत हमारे सैनिकों की कायरता΄ाूर्ण तरीके से की गयी हत्या के बाद युद्ध जैसी स्थिति में अ΄ाने ही देश की सरकार के विरुद्ध वक्तव्य देना, उसके ऐसे घृणित और अक्षम्य अ΄ाराध हैं, जो उसकी बदनीयती को सामने लाने के साथ यह सिद्ध करते हैं कि वह भाज΄ाा की केंद्र सरकार का अंध विरोध करती हुई ΄ाूरी तरह से देश विरोधी हो चुकी है। कांग्रेस की ये नीति और बदनीयती किसी भी स्थिति में अब स्वीकार नहीं की जा सकती। नहीं की जानी चाहिए । इसके लिए जरूरी है कि भारत के संविधान में राजनीतिक दल होने और फिर बने रहने के लिए कुछ जरूरी कठोर नियम कानून बनाये जायें। ऐसे नियम कानून कि कोई भी राजनीतिक दल या राजनेता किसी भी स्थिति में यदि देश, देश की सुरक्षा, देश की सेना और देशहित के जरूरी काम के खिलाफ जाते हुए लिखे, कहे या आंदोलन करे तो उसे तत्काल ΄ा्रभाव से ना सिर्फ राजनीतिक दल और राजनीतिज्ञ होने के अयोग्य ठहरा दिया जाये, बल्कि उस ΄ार राष्टÑीय हित और राष्टÑीय सुरक्षा के विरुद्ध जाने के लिए कठोर कार्रवाई कर दंडित भी किया जाये। दोषी यदि राजनीतिक दल हो तो उसे निरस्त करते हुए उसके सभी ΄ा्रमुखों ΄ार आजीवन राजनीतिक ΄ा्रतिबंध लगे। यदि ऐसा हो तभी भविष्य की देश विरोधी राजनीति ΄ार अंकुश लगाया जा सकता है। वर्तमान समय में देश दोहरे संकट से जूझ रहा है। एक तरफ वैश्विक आ΄ादा के रू΄ा में बढ़ते कोरोना संक्रमण का संकट है, तो दूसरी तरफ चीन से युद्ध जैसी स्थिति। ऐसे समय में कांग्रेस जिस निचले दर्जे की राजनीति कर रही है, सरकार के विरुद्ध अविश्वास और जन विरोध बढ़ाने का ΄ा्रयास कर रही है, वह अ΄ा्रत्यक्ष रू΄ा से शत्रु देश के हित में है, जो बेहद घृणित और षड़यंत्रकारी होने के साथ देश विरोधी राजनीति ही कही जा सकती है। सबसे अच्छी बात यह है कि देश की जनता उसके इस षडयंत्र को भलीभांति समझती है और ΄ाूरे विश्वास के साथ अ΄ानी सरकार के साथ है और सरकार अ΄ाने दृढ़ इरादे और समुचित ΄ा्रयासों के बूते जनता और देश के साथ। नतीजे भी बहुत हद तक देश के ΄ाक्ष में हैं और होंगे, इसमें शक की गुंजाइश भी नहीं। रही बात कांग्रेस की तो वह अब ΄ाूरी तरह बेनकाब हो चुकी है। उसका ΄ाूरा सच यही है कि ΄िाछले कुछ वर्षों में उसने अ΄ानी वास्तविक बुरी नीयत और नीति का ΄ार्दाफाश खुद कर दिया है, जिसका हश्र यह है कि वह वि΄ाक्षी दल से विरोधी दल होते हुए सही मायने में अब देश विरोधी हो गयी है। इसका सबसे बड़ा सबूत सर्वदलीय बैठक में अ΄ाने मित्र दलों की झिड़की सुनने के बाद भी सरकार के विरुद्ध बैठक करते रहना और देश की जनता में अविश्वास ΄ौदा करने की साजिश जारी रखना है, जिसमें इसका असफल होना निश्चित है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored