Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News

व्यापारियों और छोटे उद्योगों को सरकार से राहत पैकेज की उम्मीद |

88

नई दिल्ली : केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीथारमन द्वारा देश के गरीब और निचले तबके के एवं संगठित क्षेत्र के श्रमिकों की तत्काल आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए दिए गए सामाजिक सुरक्षा पैकेज का स्वागत करते हुए कहा की वर्तमान विकत परिस्थितियों में जहाँ इस वर्ग को राहत की सबसे बड़ी जरूरत थी, ऐसे में सरकार ने राहत देकर इस वर्ग को सम्मानपूर्वक जीवन जीने का भरपूर प्रयास किया है। ये बातें कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कही।

कैट का कहना है कि इस समय सामाजिक कल्याण पैकेज की बहुत आवश्यकता थी, क्योंकि देश में सब कुछ बंद होने के कारण गरीब तबका तालाबंदी की अवधि के लिए चिंतित था। यह संतोष की बात है कि सरकार चरणबद्ध और प्राथमिकता के आधार पर काम कर रही है जो संकट की इस घड़ी में सही दृष्टिकोण है। कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया ने इन घोषणाओं का स्वागत करते हुए कहा कि आशा है कि सर्कार जल्द ही स्व-संगठित क्षेत्र जिसमें व्यापारियों, ट्रांसपोर्टरों, छोटे उद्योगों और स्वरोजगार करने वाले शामिल हैं और राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है को भी शीघ्र इसी प्रकार का पैकेज दे सकती है।

राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि कोरोना से देश को बचाने के लिए सरकार चरणबद्ध तरीके से काम कर रही है, जिसमें पहले देशव्यापी लॉकडाउन उसके बाद व्यापार एवं उद्योग के लिए सभी वैधानिक और कर अनुपालन को स्थगित कर दिया गया और आज 1.70 लाख करोड़ का एक बड़ा पैकेज सरकार द्वारा दिया गया। गरीब और जरूरतमंद और दैनिक मजदूर जो इस समय में सबसे अधिक प्रभावित हैं, उन्हें सरकार ने राहत दी है। उन्होंने कहा कि यह प्रत्यक्ष लाभ पैकेज इस धन को खुदरा बाजारों में लाया जाएगा, क्योंकि लोग इस अतिरिक्त डिस्पोजेबल आय का उपयोग अधिक उत्पाद खरीदने के लिए करेंगे, जिससे रिटेल बाजार में नकद तरलता आएगी।

- sponsored -

- Sponsored -

कैट ने उम्मीद जताई कि अगले चरण में सरकार अब छोटे व्यापारियों और मध्यम वर्ग के मुद्दों पर ध्यान देगी, क्योंकि वे भी इस स्थिति से काफी प्रभावित हुए हैं। कैट ने पहले ही सरकार को जीएसटी भुगतानों के अवमूल्यन, व्यापारियों को आयकर और जीएसटी के तत्काल रिफंड, बैंक ईएमआई, बैंक ऋणों को आगे बढ़ाने, ब्याज लागत में कमी, कोरोना कैश लोन देने, व्यापारियों को बीमा देने जैसे सुझाव सरकार को दिए हैं।

Source : Univarta.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

%d bloggers like this: