सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

स्थायीकरण की मांग के लिए 2500 सहायक पुलिसकर्मी पहुंचे मोरहाबादी

2500 Assistant Policemen reached Moharbadi to demand confirmation

- sponsored -

रांची: राज्य के 12 नक्सल प्रभावित जिलों से 2500 सहायक पुलिसकर्मी शनिवार सुबह से मोरहाबादी में जूटे हैं। इन सहायक पुलिसकर्मियों की सरकार से स्थायीकरण करने की मांग है। तीन साल पहले इन पुलिसकर्मियों की अनुबंध के आधार पर नियुक्ति की गई थी। नियुक्ति के वक्त कहा गया था कि उनकी ड्यूटी संतोषजनक होगी तो उन्हें परमानेंट किया जाएगा। अब इनका अनुबंध खत्म हो रहा है, लेकिन अब तक उन्हें स्थायी नहीं किया गया है। मोरहाबादी में जूटी सहायक पुलिसकर्मियों ने कहा कि उनके प्रतिनिधिमंडल की उच्च अधिकारियों से वार्त्ता, लेकिन जब तक परमानेंट करने की प्रक्रिया शुरू नहीं होती वे यहां से नहीं जाएंगे। वर्दी-ए-इंसाफ आंदोलन को लेकर सहायक पुलिसकर्मी शुक्रवार देर रात से मोरहाबादी मैदान में जूटने लगे थे। देर रात यहां पहुंचे सहायक पुलिसकर्मियों ने खुले आसमान के नीचे रात गुजारी। फिलहाल, अनुशासन बनाकर सहायक पुलिसकर्मी मोरहाबादी मैदान में डटे हुए हैं।
गाड़ियों को रोका गया तो पैदल ही हुए रवाना
सहायक पुलिसकर्मियों का कहना था कि पूर्व की सरकार ने उन्हें आश्वासन दिया था, जिसकी समय सीमा खत्म हो गई है। ऐसे में विवश होकर उन्हें आंदोलन करना पड़ रहा है। पुलिसकर्मियों ने बताया कि वे यहां गाड़ियों से आ रहे थे, लेकिन जिला प्रशासन ने गाड़ियों को नहीं आने दिया। ऐसे में वे पैदल ही यहां पहुंचे हैं। पुलिसकर्मियों ने कहा कि उन्हें शुरुआत में कहा गया था कि आपको अपने थाना क्षेत्र में ही ड्यूटी करनी है, लेकिन उनसे सभी तरह के काम लिए गए हैं। थाना से लेकर ट्रैफिक और अभियान तक में वे शामिल हुए हैं। ऐसे में उनके साथ किए गए वादे को पूरा किया जाना चाहिए।
ट्रैफिक एसपी, सिटी एसी और सिटी डीएसपी पहुंचे
सहायक पुलिसकर्मियों के के मोरहाबादी मैदान में जुटने के बाद रांची के ट्रैफिक एसपी, सिटी एसपी, सिटी डीएसपी मौके पर पहुंचे और सहायक पुलिसकर्मियों से बातचीत की। ट्रैफिक एसपी ने कहा कि उन्हें अच्छा लग रहा है कि अपनी मांगों को लेकर यहां पहुंचे सहायक पुलिसकर्मियों ने अनुशासन को बनाए रखा है। यह बताता है कि आप पुलिसकर्मी हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -