सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

आखिर किस मजबूरी में लावारिस मरीज ने खाया कबूतर ?

- sponsored -

रिम्स में लावारिस मरीज का कोई देखभाल करने वाला नहीं है। राज्य के सबसे बड़े अस्पताल में इनका इलाज तो दूर इन्हें खाना तक नसीब नहीं होता। नतीजा यह होता है कि जो भी मिल जाए उससे अपनी भूख मिटाने की कोशिश करते है। रिम्स के ऑर्थोपेडिक विभाग के कॉरिडोर में मानवीय संवेदना को तार-तार करने वाला नजारा देखने को मिला। कॉरिडोर में पड़ी एक लावारिस ने दिन भर वहां से गुजरने वालों से खाना मांगती रही। लेकिन किसी ने उसकी ओर देखना तक उचित नहीं समझा। जब उसे खाना नसीब नहीं हुआ तो उसने पास में बैठे कबूतर को मारकर अपना आहार बना लिया। करीब आधे घंटे तक लावारिस मरीज ने कबूतर के पंख नोच-नोच कर अपनी भूख मिटाई।

कौन है घटना के लिये जिम्मेवार

दरअसल, रिम्स में इस विचलित कर देने वाली तस्वीर का जितना जिम्मेवार रिम्स प्रबंधन है उतना ही जिम्मेवार लावारिस को यहां लाकर छोडऩे वाली सामाजिक संगठन भी है। वे किसी तरह इन्हें लाकर तो रिम्स के कॉरिडोर में छोड़ देते है, लेकिन जब इलाज कराने और देखभाल की बारी आती है तो वे भी इन्हें छोड़ कर चले जाते है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored