सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

देश में उत्पादन की तुलना में करीब चार गुना अधिक दूध की खपत, नकली दूध का मुद्दा राज्यसभा में

नकली दूध के कारोबार में लगे लोगों को फांसी या आजीवन कारावास की सजा दिये जाने का प्रावधान हो - हरनाथ सिंह यादव

- sponsored -

राज्यसभा में सदस्यों ने देश में नकली दूध के कारोबार पर गहरी चिंता जताते हुये इस कारोबार में लगे लोगों को फांसी या आजीवन कारावास की सजा दिये जाने का प्रावधान करने और इस तरह के मामले पाये जाने पर संबंधित कलेक्टर को जिम्मेदार ठहराये जाने की मांग की।
भारतीय जनता पार्टी के हरनाथ सिंह यादव ने शून्यकाल के दौरान सदन में यह मुद्दा उठाते हुये कहा कि देश में उत्पादन की तुलना में करीब चार गुना अधिक दूध की खपत हो रही है। ऐसी स्थिति में मांग की पूर्ति के लिए नकली या जहरीले दूध का व्यापक पैमाने पर उत्पादन किया जा रहा है जो न:न सिर्फ नुकसानदेह है बल्कि यह जानलेवा कैंसर की बीमारी का जनक भी है।
उन्होंने कहा कि यूरिया, भारी धातु, क्रोमियम, बेंजामिन, वनस्पति और वाशिंग पाउडर मिलाकर देश में जहरीला दूध बनाया जा रहा है जो बहुत ही खतरनाक है। उन्होंने कहा कि उत्तर भारत में बहुत कम गांव ही बचा होगा जहां इस तरह का दूध नहीं बन रहा है।
भाजपा सदस्य ने कहा कि खाद्य नियामक एफएसएसआई द्वारा उठाये गये दूध के नमूनों में से 37.7 प्रतिशत मानक के विपरीत पाये गये हैं। ब्रांडेड कंपनियों द्वारा बेचा जा रहा दूध भी मानक पर खड़ा नहीं उतरा है। श्री यादव ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों का हवाला देते हुये कहा कि जहरीले दूध के कारोबार पर यदि लगाम नहीं लगाया गया तो देश की 87 प्रतिशत आबादी कैंसर से पीड़ित हो जायेगी।
उन्होंने सरकार ने इस काम में लगे लोगों के लिए फांसी या आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान किये जाने की मांग करते हुये कहा कि जिन जिलों में इस तरह के मामले मिले वहां के कलेक्टर को इसको लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।
पक्ष और विपक्ष के कई सदस्यों ने श्री यादव की मांग का समर्थन किया।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored