सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों को 10 दिन में किया जायेगा डिस्चार्ज

Corona patients without symptoms will be discharged in 10 days

- Sponsored -

रांची : कोरोना को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के गाइडलाइन के मुताबिक झारखंड में कोरोना मरीजों के लिए नई डिस्चार्ज पॉलिसी लाई गई है। नई पॉलिसी के मुताबिक कोविड केयर सेंटर में रह रहे बिना लक्षण वाले यानी एसिंप्टोमैटिक मरीजों को 10 दिन कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा, लेकिन उन्हें 7 दिन होम क्वारेंंटाइन में ही रहना होगा। ऐसे किसी भी मरीज को डिस्चार्ज किया जाता है तो इससे पहले कोविड टेस्ट परीक्षण की जरूरत नहीं होगी। डिस्चार्ज होने के बाद अगर मरीजों को बुखार या फिर कोई और लक्ष्ण डेवलप होते हैं तो ऐसे मरीज कोविड केयर सेंटर से संपर्क करेंगे या फिर स्टेट हेल्प लाइन 1075 पर फोन करेंगे। ऐसे मरीजों का 14 दिन बाद टेलीफोन पर स्वास्थ्य की जानकारी भी ली जाएगी। एनएचएम के अभियान निदेशक रवि शंकर शुक्ला ने राज्य के सभी सिविल सर्जन, सर्विलांस अधिकारी तथा मेडिकल कालेज के प्रिसिंपल और अधीक्षक को निर्देश दिया है कि नई डिस्चार्ज पॉलिसी का पालन किया जाए।
मॉडरेट केसेज सीधे आॅक्सीजन बेड्स पर होंगे भर्ती
स्वास्थ्य विभाग की नई पॉलिसी के मुताबिक थोड़े गंभीर लक्षण वाले मरीजों को डेडिकेटेड कोविड हेल्‍थ सेंटर में आॅक्सीजन बेड्स पर रखा जाएगा। उन्हें बॉडी टेम्प्रेचर और आॅक्सीजन सैचुरेशन चेक्‍स से गुजरना होगा। अगर बुखार तीन दिन में उतर जाता है और मरीज का अगले चार दिन तक सैचुरेशन लेवल 95 प्रतिशत से ज्‍यादा रहता है तो मरीज को 10 दिन के बाद छोड़ा जा सकता है। मगर बुखार, सांस लेने में तकलीफ और आॅक्सीजन की जरूरत नहीं होनी चाहिए। ऐसे मरीजों को डिस्चार्ज से पहले टेस्टिंग से नहीं गुजरना होगा।
गंभीर मरीजों के लिए नई गाइडलाइंस
ऐसे मरीज जो आॅक्सीजन सपोर्ट पर हैं, उन्‍हें क्लिनिकल सिंप्टम्स दूर होने के बाद ही डिस्चार्ज किया जाएगा। लगातार तीन दिन तक आॅक्सीजन सैचुरेशन मेंटेन रखने वाले मरीज ही डिस्चार्ज होंगे। इसके अलावा एचआईवी पेशेंट्स और अन्‍य गंभीर बीमारियों वाले पेशेंट्स को क्लिनिकल रिकवरी और आरटी-पीसीआर टेस्‍ट में नेगेटिव आने के बाद ही डिस्चार्ज किया जाएगा

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -