सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

डीसी ने दिया आस्था बिल्डर को 3 दिन में राशि लौटाने का निर्देश, वरना होगी एफआईआर दर्ज

DC gave instructions to Faith Builder to return the amoun

- Sponsored -

धनबाद  : उपायुक्त उमा शंकर सिंह लगातार लोगों की समस्या को समाधान करने की कोशिश  कर रहे है चाहे पेंशन, राशन  से जुडें हों या जमीन,  अपार्टमेंट के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले वैसे बिल्डरों पर भी करवाई कर रहे है. जनता दरबार में उपायुक्त ने एपकॉन होम्स प्राइवेट लिमिटेड (आस्था बिल्डर) के धीरज सिंह को वर्ष 2011 में  पियूष कांती विश्वास से ली गई राशि को 3 दिन में लौटाने का निर्देश दिया है। धनबाद डीसी के जनता दरबार में भूंइफोड़ के नीलिमा विश्वास एवं सौरव विश्वास ने आवेदन देकर उपायुक्त को बताया कि 24 मई 2011 को उन्होंने धीरज सिंह को आस्था मनमोहन एस्टेट, सरायढेला में एक फ्लैट खरीदने के लिए ₹1500000 दिए थे। बिल्डर ने 2013 में फ्लैट हैंड ओवर देने का वादा किया था। जो पूरा नहीं किया। फ्लैट देने की बारंबार विनती करने के बाद उपरोक्त बिल्डर ने 26 अप्रैल 2016 को उनका एग्रीमेंट कैंसिल कर दिया तथा इंटरेस्ट सहित 20 लाख रुपए देने का वादा किया। बिल्डर ने  विश्वास को बैंक ऑफ महाराष्ट्र के तीन चेक दिया, जिसका मूल्य 14 लाख था, परंतु सभी चेक बिल्डर के खाते में पर्याप्त राशि नहीं होने के कारण अस्वीकृत हो गए।

राशि नहीं लौटाने पर बिल्डर पर होगी एफआईआर दर्ज- उपायुक्त

बार-बार विनती करने के बाद बिल्डर ने मात्र एक लाख 50 हजार रूपए लौटाया। साथ ही बिग बाजार के पास आस्था ट्विन टावर ‘बी’ में एक फ्लैट देने के लिए श्री विश्वास को राजी किया। जब श्री विश्वास ने उक्त स्थल का मुआयना किया तो पाया कि उन्हें फिर से ठगा गया है क्योंकि टावर ‘बी’ का कंस्ट्रक्शन चालू ही नहीं हुआ था तथा उसका फ्लोर प्लान भी सैंक्शन नहीं हुआ था. सौरव कुमार विश्वास ने उपायुक्त से गुहार लगाई कि उन्होंने अपने जीवन की सारी जमा पूंजी फ्लैट खरीदने में लगाई। परंतु राशि नहीं मिलने के कारण उनकी वित्तीय स्थिति बहुत ही खराब है। उपायुक्त ने उपरोक्त बिल्डर को फोन कर 3 दिन में राशि लौटाने का निर्देश दिया। राशि नहीं लौटाने पर उनके विरुद्ध एफआईआर दर्ज की जाएगी।

- Sponsored -

रिपोर्ट  : समामा औसाल

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored