सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

सरकार ने छठ महापर्व पर सूर्य को अर्घ्य देने की नहीं दी अनुमति

Government did not allow to offer arghya to Surya on Chhath Mahaparva

- Sponsored -

सन्मार्ग(लाइव 7) रांची 16 नवंबर 2020

झारखंड के मुख्यमंत्री माननीय हेमंत सोरेन ने कोरोना के संकट काल को देखते हुए छठ महापर्व को घरों पर ही करने का निर्देश दिया एवं घाटों पर सूर्य को अर्घ्य देने की अनुमति नहीं दी। सरकार के इस फैसले से बिहार झारखंड के असंख्य छठ व्रतियों का मन बैठ गया है। सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट के सदस्यों एवं कार्यकर्ताओं एवं कार्यकारी समिति की बैठक में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से यह अनुरोध किया गया कि वह इस फैसले को पुनर्विचार करें एवं सोशल डिस्टेंसिंग मास्क सैनिटाइजर आदि व्यवस्थाओं के साथ सीमित मात्रा में घाटों पर आस्था के महान पर्व छठ को सूर्य देव को अर्ध्य देने की अनुमति घाटों पर दी जाए। सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट के सचिव श्रीमती शालिनी साहनी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी को पत्र लिखकर विशेष रुप से विनम्र अनुरोध किया की छठ पूजा घाट पर करने की अनुमति दी जाए  उन्होंने आगे कहा कि जब इलेक्शन और वोटिंग जैसी चीजें हो सकती है तो फिर बार-बार पूजा एवं आस्था से जुड़ी चीजों पर ही कोरोना के नाम पर रोक क्यों लगाई जाती है। यह एक दुखद बात है कि कोरोना के प्रति जन मानस में पर्याप्त चेतना फैल चुकी है लोग स्वयं से सचेत हैं और खुद को कोरोना महामारी से बचाने की समुचित उपाय करना सीख चुके हैं ऐसे में आस्था का महापर्व छठ पर्व में राज्य के नदी तालाब घाटों पर अर्थ देने की अनुमति नहीं देना बहुत ही शर्मनाक है। इस फैसले पर सरकार को पुनर्विचार करना ही चाहिए और झारखंड वासियों के संवेदना एवं सद्भावना का ख्याल रखते हुए एक अभिभावक के रूप में मुख्यमंत्री जी को पुनर्विचार करना चाहिए। सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट ने मुख्यमंत्री से अनुरोध स्वरूप शांतिपूर्ण तरीके से उनको पत्र लिखा एवं सोशल मीडिया पर भी लगातार अपील कर रही है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored