सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

सरकार छात्रवृत्ति के फर्जीवाड़े पर कर रही गलत बयानबाजी: भाजपा 

Government making false statements on fake scholarship: BJP

- Sponsored -

रांची: भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा है कि प्री मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक और अल्पसंख्यक विद्यार्थियों के लिए छात्रवृत्ति में फर्जीवाड़े पर पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने रोक लगाई थी। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों का छात्रवृत्ति केंद्र सरकार के नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल से डीबीटी के माध्यम से सीधे विद्यार्थियों के खाते में केंद्र सरकार द्वारा भेजा जाता है। प्रतुल बुधवार को पार्टी मुख्यालय में प्रेस वार्त्ता में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि छात्रवृत्ति के लिए संस्थानों द्वारा एवं संस्थान के अल्पसंख्यक विद्यार्थियों द्वारा पोर्टल पर सीधे अपनी सूचना एवं आवेदन की प्रविष्टि किया जाता है। लाभुक विद्यार्थियों के लगभग दो लाख आवेदन में से केवल 95,000 को ही छात्रवृत्ति दिया गया, जो पूर्व कि रघुवर दास के
नेतृत्ववाली सरकार द्वारा कार्रवाई के कारण हो सका। प्रतुल ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को यह स्पष्ट करना चाहिए कि उन्होंने अपने कार्यकाल के 10 माह में इस मुद्दे पर आगे क्या कार्रवाई की है।
राजनीतिक फायदे के लिए तथ्यों को तोड़ मरोड़कर पेश कर रहे सीएम
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सिर्फ राजनीतिक लाभ लेने के लिए तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रहे हैं। संवैधानिक पद पर बैठे मुख्यमंत्री ने जांच रिपोर्ट आने के पहले ही पूरे मामले के लिए पूर्व की सरकार को दोषी ठहरा दिया जो सरासर गलतबयानी है। प्रतुल ने कहा कि केंद्र सरकार के अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के सचिव ने पांच जुलाई 2019 को राज्य सरकार को इस योजना के लाभुकों,संस्थाओं और विद्यालयों की जानकारी का सत्यापन करने को कहा था। स्कॉलरशिप योजना की नोडल एजेंसी झारखंड राज्य अल्पसंख्यक वित्त एवं विकास निगम ने पांच जुलाई 2019 को ही सभी जिला कल्याण पदाधिकारी को पत्र लिखकर जिलों में विद्यालयों, महाविद्यालयों, संस्थानों और अध्ययनरत छात्रों के जानकारी लेने का निर्देश दिया था। प्रतुल ने कहा कि पिछली सरकार में भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस था। जैसे ही गड़बड़ी की सूचना राज्य सरकार को मिली तो राज्य सरकार की नोडल एजेंसी झारखंड राज्य अल्पसंख्यक वित्त एवं विकास निगम ने तुरंत इस मामले में कड़े कदम उठाए थे, जिसके कारण 46,000 संस्थानों में सिर्फ 3100 संस्थानों को मंजूरी दी गई थी। मौकेप्रदेश मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक भी उपस्थित थे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -