सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

कुख्यात अमन साहू को पुलिस ने लिया रिमांड पर

kukhyaat aman saahoo ko pulis ne liya rimaand par

- sponsored -

रांची : चुटिया पुलिस ने कुख्यात अमन साहू को पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया है। चुटिया पुलिस अगले दो दिनों तक पूछताछ करेगी। अमन से पूछताछ में पुलिस को कई खुलासे की उम्मीद है। वहीं पूर्व में उसके गैंग के जिन चार सदस्यों को पुलिस ने रिमांड पर लाया था, उनमें से एक का रिपोर्ट पॉजिटिव आया है। इसके बाद से ही चुटिया थाने में हड़कंप मचा हुआ है। चारों से प्रारं•िाक पूछताछ के बाद पुलिस ने तीन को कोर्ट में प्रस्तुत कर जेल पहुंचा दिया। जबकि जिस अपराधी का रिपोर्ट पॉजिटिव आया है उसे अस्पताल में •ार्ती करा दिया गया है। वहीं अमन का •ाी कोविड टेस्ट पुलिस ने कराया है। सूत्रों के अनुसार अमन साहू से पुलिस यह जानने के प्रयास में लगी है कि उसके निशाने पर कोयला व्यापारियों के अलावा और कौन-कौन व्यवसायी थे। वहां कहां-कहां से रंगदारी वसूलता है और उसके गिरोह के लिए अ•ाी कौन-कौन काम कर रहा है। पुलिस ने अमन के ही पांच शूटरों को चुटिया इलाके से तब पकड़ा था, जब वे स•ाी कोयला के कुछ व्यापारियों को मारने की योजना बना रहे थे। इसके अलावा पुलिस को अमन से हत्या, रंगदारी सहित कई अन्य कांडों में •ाी पूछताछ करनी है। अमन से कोयला कारोबारियों के संबंध में सीआईडी की टीम •ाी पूछताछ कर सकती है। मालूम हो कि कुख्यात गैंगस्टर अमन साव को एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा के नेतृत्व में पुलिस टीम ने कार्रवाई करते हुए उसके एक साथी के साथ बीते 20 जुलाई को धुर्वा जेपी मार्केट के समीप सखुआ बागान से गिरफ्तार किया था। अपने साथियों की गिरफ्तारी के बाद वह वहां छुपकर रह रहा था। अमन पर राज्य के अलग-अलग थानों में करीब 50 मामले दर्ज है।
थाना हाजत से फरार होने के मामले की जांच तेज
रांची : कुख्यात अमन साहू के बड़कागांव थाने की हाजत से फरार होने के मामले में सीआईडी ने जांच तेज कर दी है। इस कड़ी में सीआईडी ने वहां पदस्थापित तत्कालीन डीएसपी का बयान लिया है। अमन बीते साल सितंबर में वहां से •ाागा था। सीआईडी ने एक-एक बिंदु पर जानकारी ली है। अमन के फरार होने में पुलिस की •ाूमिका पर संदेह है। काफी सवाल उठाये गये थे। इस कारण ही इस मामले की जांच की जिम्मेवारी सीआईडी को दी गयी है। मालूम हो कि रामगढ़ जेल से निकलने के बाद अमन को उरीमारी में एक हत्याकांड में गिरफ्तार किया गया था। बाद में उसे बड़कागांव थाना लाया गया था, जहां से वह फरार हो गया था। तब थाना प्र•ाारी का निलंबन हुआ था। हालांकि बताया जा रहा है कि चंद दिनों में ही थानेदार को निलंबन मुक्त कर दिया गया था। इस मामले में सीआईडी कुछ अन्य बिंदु पर •ाी जानकारी एकत्र कर रही है ताकि मामले की तह तक पहुंचा जा सके।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -