सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

अभिभावकों ने की मांग, “नो स्कूल नो फीस”

Parents demand, "No school no fees"

- sponsored -

जमशेदपुर : वैश्विक संकट के इस दौर में एक ओर जहां केंद्र और राज्य सरकार वैश्विक आपदा से निपटने में जुटी हुई है, वहीं निजी स्कूल और अभिभावक आमने-सामने हैं. आए दिन निजी स्कूलों के फरमान से अभिभावक आंदोलित हो रहे हैं. वैसे झारखंड सरकार ने पिछले दिनों निजी स्कूलों के साथ बैठक के बाद न्यूनतम फीस लिए जाने का निर्देश निजी स्कूलों को दिया था. वैसे झारखंड अभिभावक संघ और शिक्षा सत्याग्रह संगठन ने सरकार के इस फैसले पर आपत्ति जताई है. जहां उन्होंने साफ कर दिया है नो स्कूल, नो फीस, यानी पढ़ाई नहीं तो फीस नहीं.

निजी स्कूलों की मनमानी पर रोक लगे- झारखंड अभिभावक संघ

इसको लेकर दोनों ही संगठनों का संयुक्त प्रतिनिधिमंडल आज जिला शिक्षा अधीक्षक कार्यालय पहुंचा जहां उन्होंने जिले के शिक्षा अधीक्षक को ज्ञापन सौंप कर निजी स्कूलों के मनमानी पर रोक लगाए जाने की मांग की है. साथ ही इन्होंने साफ कर दिया है कि सरकार की ओर से जो दिशा निर्देश निजी स्कूलों को जारी किए गए हैं उस पर भी निजी स्कूल अमल नहीं कर रहे है. उन्होंने सरकार के फैसले पर आपत्ति जताई है, और कहा है कि इस पर सरकार को एक बार फिर से फैसला लेना चाहिए.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored