Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

‘समुदाय से समुदाय तक’ की थीम पर मनाया जाएगा विश्व एड्स दिवस

189

- sponsored -

- Sponsored -

सासाराम – एचआईवी एक गंभीर बीमारी है जिसे ह्यूमन इम्यूनोडेफिशिएंसी वायरस यानि एचआईवी के नाम से जाना जाता है। जबकि इसे आम बोलचाल में एड्स यानि एक्वायर्ड इम्यून डेफिशिएंसी सिंड्रोम बोला जाता है। हर साल विश्व एड्स दिवस दिसंबर माह की पहली तारीख यानि 1 दिसंबर को पूरी दुनिया में मनाया जाता है। इस दिन को वैश्विक स्तर पर मनाने की शुरुआत साल 1988 में विश्व स्वास्थ्य संगठन की जागरुकता अभियान में शामिल दो सार्वजनिक सूचना अधिकारियों जेम्स डब्ल्यू बुन और थॉमस नेट्टर ने एचआईवी के खिलाफ एकजुट होने के उद्देश्य से की थी। समुदाय से समुदाय तक’ इस साल के विश्व एड्स दिवस की थीम है।
राज्य में 1 लाख से अधिक एड्स पीड़ित: राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन के अनुसार वर्ष 2017 तक देश में लगभग 21.40 करोड़ लोग एड्स से पीड़ित हैं। जबकि बिहार में लगभग 1.15 लाख लोग एड्स की चपेट में हैं। एड्स नियंत्रण में कंडोम की अहम् भूमिका होती है। ज्ञात है कि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-3 के मुकाबले इसमें भी 4.7 प्रतिशत का इजाफ़ा हुआ है। हालाँकि कंडोम इस्तेमाल करने के मामले में पुरुषों को अधिक जागरूक होने की सख्त आवश्यकता है क्योंकि रोहतास जिला में केवल 1.1 प्रतिशत पुरुष ही कंडोम का इस्तेमाल कर रहे हैं।
जिले में है जांच एवं परामर्श की सुविधा : बिहार एड्स नियंत्रण सोसाइटी द्वारा एड्स पीड़ितों को व्यापक सुविधा प्रदान करने के लिए पूरे प्रदेश में 16 एआरटी(एंटी-रेट्रोवायरल) सेंटर स्थापित किया गया है , जो पूर्ण रूप से क्रियाशील भी है। साथ ही अन्य 24 लिंक एआरटी सेंटर भी स्थापित की गयी है जो एड्स पीड़ितों को सुविधा प्रदान कर रही है। यौन संक्रमित एवं प्रजनन संक्रमित रोगों से बचाव के लिए बिहार एड्स नियंत्रण सोसाइटी द्वारा जिले के सदर अस्पताल में आईसीटीसी (इंटीग्रेटेड काउंसलिंग एंड टेस्टिंग सेंटर) खोला गया है। इनके माध्यम से एड्स के विषय में लोगों को परामर्श के साथ एड्स की जाँच की सुविधा प्रदान की जा रही है। एड्स के ख़िलाफ़ इस जंग में जिले में गैर-सरकारी संस्थाएं सरकार को सहयोग करते हुए महिला सेक्स वर्करों, समलैंगिकों, ट्रक चालकों एवं प्रवासियों के बीच कार्य कर रही है एवं लोगों को जागरूक कर रही है।
यह है एड्स फैलने के कारण:
• एचआईवी खून चढ़ाने पर
• असुरक्षित और समलैंगिक यौन संबंध से
• एचआईवी संक्रमित मां से शिशु को
लक्षणों को नहीं करें अनदेखा:
• लंबे समय तक खांसी रहना
• बार-बार सांस फूलना एवं लंबे समय तक बुखार रहना
• सरदर्द एवं मांसपेशियों में दर्द रहना
• शारीरिक कमजोरी आना एवं तेजी से वजन घटना
• त्वचा पर लाल चकत्ते एवं मुंह में छाले होना
• धुंधला दिखाई देना

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -