Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

विश्व दिव्यांगता दिवस व डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती धूमधाम से मनाई गई

71

- Sponsored -

- sponsored -

सीतामढ़ी – बाजपट्टी प्रखंड परिसर के सामने म. वि. मधुबन में विश्व दिव्यान्गता दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह में प्रधानाध्यपक द्विजेंद्र कुमार के द्वारा अध्ययन रत छात्र व छात्राओं के बीच स्वेटर वितरण किया गया जिसमें विशाल कुमार,राजदेव दास ,अविनाश कुमार , रोशनी कुमारी ,यशोदा कुमारी ,आंचल कुमारी , माया कुमारी ,संजू कुमारी कुल आठ दिव्यांगो को एक एक स्वेटर भेंट किया।उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में दिव्यान्गता दिवस 03.12.2019को मनाया जा रहा है इसकी शुरुआत 03.12.1992से संयुक्त राष्ट्र संघ के निर्णय के अनुसार प्रति वर्ष मनाया जाता है। इसका मूल उद्देश्य दिव्यांगो के प्रति करुणा, दिव्यान्गता को सहजता से स्वीकार कर उसके हौसले को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है। पूरे विश्व में जनसंख्या का 15% दिव्यांग है। इनमें मिस हेलेन केलर शारीरिक दिव्यांग होने के बाद भी बहुत कुछ इन के लिए किया है। जर्मन हाकिंस ने टेलर फ्रेम का आविष्कार कर दिव्यांग के हौसले को बुलंद किया है। दिव्यान्गो के सम्मान और हौसला अफजाई के लिएगीत गाकर बच्चों को आनंदित कर दिया। गीत के बोल है। माना तन से मै दिव्यांग हूं,मन से तुम भी तो हो।हमारे सोच में जो दम है, वजह हमारे हौसले बुलंद हैं। असहाय नहीं मैं सक्षम हूं, तुमने समझा कैसे, मै किसी से कम हूं।हमने भी करतब दिख लाया है,कई पदक जीत कर लाया है। विज्ञान में हम ने भी चमत्कार किया। तभी तो जर्मन हाकिंस ने आइंस्टीन को टक्कर दिया। खिल्ली हमारा तुम कभी उराओगे ,याद रखो तुम भी इससे अछूता नहीं रह पाओगे। चाह ही तो जीवन का मूल मंत्र है, अंगो तो बस उन्हें पूरा करने का संयंत्र है। माना तन से मै दिव्यांग हूं, मन से तुम भी तो हो। अंत में कहा कि समाज को भी सहयोग के लिए आगे आना चाहिए। वहीं विद्यालय के प्रांगण में भारत के प्रथम रा्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद जी के चित्र पर माल्यार्पण कर जन्म दिवस मनाया गया। इनका जन्म 03दिसंबर 1884ईसवी में बिहार के सीवान जिले के जिरादेई ग्राम में हुआ था। इनके पिता का नाम महादेव दास माता का नाम कमलेश्वरी देवी था। इनका विवाह 13 वर्ष की आयु में राजवंशी देवी से हुआ। ये महान शिक्षा विद, कुशल प्रशासक, कुशाग्र बुद्धि के धनी व्यक्ति थे। स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाई, कई बार जेल गए, तीन बार कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बने। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति बने। इन्होंने हिंदी ,उर्दू, फारसी, अंग्रेजी और बांग्ला भाषा में ज्ञान प्राप्त किया। ये कानून विषय में पी एच डी की, इनको एम् ए में गोल्ड मेडल एवम् वजीफा भी मिला। परीक्षा की कापी जांच कर रहे शिक्षक ने इनकी कापी पर लिखा परीक्षार्थी परीक्षक से भी अधिक योग्य हैं। इनके जन्म दिवस को बिहार सरकार मेधा दिवस के रूप में मनाती है। इस दिन मैट्रिक एवम् इंटर परीक्षा पास करने वाले छात्र छात्राओं में से प्रथम दस को पुरस्कृत किया जाता है।आज भी इनके जन्म दिवस को मेधा दिवस के रूप में मनाते हुए प्रधानाध्यापक द्विजेंद्र कुमार के द्वारा परीक्षा आयोजित कराकर 05छात्र छात्राओं को पुरस्कृत किया गया। अब म वि मधुबन बाजपट्टी सीतामढ़ी में प्रत्येक माह में प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित कराकर वर्ग बार 05-05छात्रों को 50रुपए की दर से और पूरे विद्यालय में 1से 10स्थान प्राप्त करने वाले छात्रों को 100रुपए की दर से मेधा छात्रवृत्ति दी जाएगी। आज सभी 05 छात्रों को 100-100रुपए की दर से मेधा छात्रवृत्ति दी गई है। इस राशि का भुगतान प्रधानाध्यापक द्विजेंद्र कुमार अपने वेतन मद से करेंगे। आगे इस राशि को बढ़ाने के लिए समाज से भी सहयोग प्राप्त करने का प्रयास करेंगे।सफल प्रतिभागी के नाम इस प्रकार से है सर्वजीत कुमार वर्ग 08प्रथम स्थान,द्वितीय स्थान मो रेहान वर्ग 07, तृतीय स्थान सुनीता कुमारी वर्ग 06,चतुर्थ स्थान मो फैजान वर्ग05, पाचवा स्थान सलोनी कुमारी वर्ग 04को 100-100रुपए की दर से मेधा छात्रवृत्ति पुरस्कार प्रदान किया गया। मौके पर उपस्थित शिक्षक अल्तमस वहाब खान, सुरेन्द्र प्रसाद साह विशाल कुमार शबनम कुमारी सुनीता कुमारी विभा कुमारी आरती कुमारी क्षमा कुमारी पाल आदि उपस्थित थे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored