सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

खूंटी के ग्रामीणों में देश के लिए उदाहरण बनने की क्षमता: मनरेगा आयुक्त

The ability of the pegs to become an example for the country among the villagers: MNREGA commissioner

- sponsored -

रांची: मनरेगा आयुक्त सिद्धार्थ त्रिपाठी ने रविवार को कर्रा प्रखंड का दौरा कर मनरेगा समेत विभिन्न योजनाओं की प्रगति का जायजा लिया। मनरेगा इस दौरान उन्होंने गुनी गांव का भ्रमण किया। मौके मनरेगा आयुक्त ने कहा कि हम सभी का लक्ष्य होना चाहिए कि हम बहुमुखी प्रगति के पथ पर अग्रसर हो सकें। उन्होंने कहा कि सतत विकास के उद्देश्यों को पूर्ण करने की दिशा में आगे बढ़ने की जरूरत है। हमें इसका सफल कार्यान्वयन सुनिश्चित करना है, जिससे हर व्यक्ति स्वावलंबन और आत्मविश्वास को सिद्ध कर सके। हम अपने गांव और अपने श्रम से आत्मनिर्भर जीवन की ओर कदम बढ़ाएंगे। उन्होंने कहा कि खूंटी जिला के ग्रामीणों का यह उत्साह देखकर लगता है कि विकास की गति अब नहीं रुकेगी। साथ ही खूंटी जिला पूरे राज्य के लिए सही उदाहरण बन कर उभरेगा। उन्होंने इन कार्यों को सफल रूप प्रदान करने के लिए की लोक प्रेरक दीदियों के साथ जनसामान्य की भी सराहना की है। साथ ही इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए ग्रामीणों का आत्मबल भी बढ़ाया। उन्होंने ग्रामीणों को खेती के साथ-साथ पशुपालन व मत्स्य पालन की दिशा में भी प्रेरित किया। मनरेगा आयुक्त ने कहा कि वर्तमान में लोगों को सामाजिक प्रगति की ओर अग्रसर होने की आवश्यकता है। इसके लिये सामाजिक कुरीतियों को दूर करने के लिए प्रयास होने चाहिए। मनरेगा के तहत संचालित योजनाओं के प्रति ग्रामीणों का उत्साह और आत्मविश्वास से भरी परिवर्तन की ललक सराहनीय है। मौके पर सेवानिवृत्त हरिशंकर गुप्ता भारतीय वन सेवा, शशि भूषण (आईसीएआर) व अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।
कम होते जल स्तर के प्रति हमें सजग होने की जरूरत
मनरेगा आयुक्त ने बताया कि प्रेरक दीदियों के माध्यम से हर व्यक्ति अपने स्तर से जागरूक बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में हम सभी का उद्देश्य वर्षा जल के बहाव को कम करना, वर्षा जल का संचय, जमीन में नमी की मात्रा बढ़ाना, जल संरक्षण की विभिन्न संरचनाओं का निर्माण यथा टीसीबी, मेढ़ बंदी, सोखता गड्ढा एवं नाला जीर्णोद्धार व फलदार वृक्षारोपण को धरातल पर सफल रूप देकर हमें मिलकर कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने सखी मंडल की दीदियों की प्रशंसा करते हुए कहा कि दीदियों ने ग्रामीणों को अपने हित के लिए जागरूक बनने की राह दिखाई है। नशा मुक्ति की तरफ ध्यान आकृष्ट करते हुए उन्होंने कहा कि इस दिशा में ग्रामीण जागरूक हो रहे हैं और अब लॉकडाउन की विपरीत परिस्थितियों में अवसर प्राप्त कर कल्याण की राह में बढ़ चले हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -