सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

नालंदा की बेटी “पद्मावती” का मुद्दा लोकसभा में जोरदार तरीके से उठाया गया

शुन्यकाल के दौरान लोकसभा में नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार ने नालंदा की बेटी जो हरिद्वार के मात् सदन आश्रम में गंगा की अविरलता एवं निर्मलता के लिए 54 दिनों से लगातार अनावरत आमरण अनशन पर बैठी साध्वी पद्मावती के समर्थन में सदन एवं सरकार के समक्ष जोरदार तरीके से अपनी बात रखा।

- Sponsored -

राकेश कुमार की रिपोर्ट

नालंदाः- शुन्यकाल के दौरान लोकसभा में नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार ने नालंदा की बेटी जो हरिद्वार के मात् सदन आश्रम में गंगा की अविरलता एवं निर्मलता के लिए 54 दिनों से लगातार अनावरत आमरण अनशन पर बैठी साध्वी पद्मावती के समर्थन में सदन एवं सरकार के समक्ष जोरदार तरीके से अपनी बात रखा।

उन्होंने बताया कि मैं और बिहार सरकार के जल संसाधन मंत्री माननीय संजय झा, दोनों मात् सदन आश्रम जाकर साध्वी पद्मावती से मिला और बिहार के लोकप्रिय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी द्वारा लिखे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पत्र भी उन्हें सौंपा। जिसमें साध्वी पद्मावती की बिगड़ते सेहत और गंगा की अविरलता एवं निर्मलता हेतु पद्मावती के मांगों को मान लेने एवं बिगड़ते सेहत को देखते हुए आमरण अनशन तुड़वाने का जिक्र भी उस पत्र में उल्लेखित है। सांसद ने कहा मात्र 23 वर्ष की नालंदा की बेटी साध्वी जो मानव जीवन के दूरदर्शी सोच हेतु आमरण अनशन पर बैठी है।

- Sponsored -

इस तरह के आंदोलन में स्वामी निगमानंद सरस्वती, बाबा नागनाथ, स्वामी ज्ञानस्वरूप आनंद, स्वामी गोखले नंद, प्रो जीडी अग्रवाल ने आमरण अनशन करते हुए मानव जीवन हेतु अपनी शहादत दे चुके है। उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की है कि साध्वी पद्मावती की जायज मांग को जल्द से जल्द मान ली जाए और माननीय प्रधानमंत्री इसमें स्वयं हस्तक्षेप करें क्योंकि मैंने उनकी बिगड़ती हालत को देखा है। बाल अवस्था से सन्यास धारण कर चुकी इस नालंदा की बेटी को पूरा बिहार एवं बिहार सरकार इनके स्वास्थ्य के प्रति चिंतित है और गर्व भी है।

ये भी पढ़ेंः- आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की इलाज के दौरान मौत

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored