Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News

दावथ में बोले उपेन्द्र कुशवाहा, आज के वास्तविक भगवान हैं किसान

जिले के दावथ में पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री और रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा मलियाबाग मुखिया मार्केट में प्रेस वर्ता की। उ्नहोंने काह कि आज के वास्तविक भगवान हैं किसान। किसानों की समस्याओं को हर कर के ही देश आगे बढ़ सकता है।

16

रोहतासः- जिले के दावथ में पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री और रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा मलियाबाग मुखिया मार्केट में प्रेस वर्ता की। उ्नहोंने काह कि आज के वास्तविक भगवान हैं किसान। किसानों की समस्याओं को हर कर के ही देश आगे बढ़ सकता है। किसानों की अपने समस्या पर जिस दिन वोटिंग करने लगें, उसी दिन से किसानों की समस्या समाप्त हो जाएगी। सरकार भी किसानों के समस्या ध्यान देने लगेगी। किसानों, बेरोजगारों पर आज तक केवल खोखली राजनीति होती रही है। जिसके लिए किसान भी समान रूप से दोषी हैं।

चुनाव से पूर्व किसानों, बेरोजगारों की समस्या पर चर्चा होती है। लेकिन चुनाव के समय धर्म जाति पर वोटिंग होने लगती है। जिस दिन वोटिंग किसान अपने समस्या पर करने लगे, उसी दिन किसानों की समस्या समाप्त हो जाएगी। अपने समस्या पर वोटिंग नहीं करने के कारण किसान, अपने को ठगा महसूस कर रहे हैं। राजनैतिक दल किसानों, बेरोजगारों को केवल ठगने का काम करती रही है।  वे मोहनियां में एक कार्यक्रम में जाने के दौरान मलियाबाग में रूके हुए थे। जहां कार्यकर्ताओं द्वारा भव्य स्वागत किया गया।

- Sponsored -

- sponsored -

कुशवाहा ने कहा कि जब नेताओं को घर बैठे जनता को लडा कर वोट मिल रहा है तो बेरोजगारी, किसानों की बदहाली, शिक्षा समेत अन्य जरूरी मुद्दों पर मेहनत क्यों करें? हमने शिक्षा, बेरोजगारी और किसानों के मुद्दे पर रह जगह जा कर मुद्दा बनाने का काम कर रहा हूं। आगे भी करता रहुंगा। कृषि, शिक्षा को बेहतर बनाने और बेरोजगारी दुर करने पर ही देश का विकास होगा। इस अवसर पर रालोसपा के वरीष्ठ नेता धन्नजी मुखिया, उमेश कुमार कुशवाहा, डा जितेंद्र नाथ मौर्य, शिवजत सिंह,भूषण सिंह, विजय प्रकाश, मुनि सिंह सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

ये भी पढ़ेंः- विधानसभा मार्च के लिये भाकपा माले ने राजद को दिया आमंत्रण

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

%d bloggers like this: