सन्मार्ग लाइव
सनसनी नहीं, सटीक खबर

वट सावित्री पूजा, सुहागिनों ने की वट वृक्ष की पूजा

Vat Savitri Puja, Suhagins worshiped Vat tree

- Sponsored -

सिमड़ेगा / कोलेबिरा : वट सावित्री पूजन को लेकर सिमडेगा जिले सहित कोलेबिरा प्रखंडों में मंदिरों मे सुहगिनों की भीड़ देखी गयी. आज का दिन सुहगिनो के लिये विशेष दिन है। पति की लम्बी उम्र के लिये  व्रत रख कर सावित्री, सत्यवान, यमराज के साथ वट वृक्ष की पूजा की। महिलाओं में कोरोना वायरस का कहीं भी भय नहीं दिखा। सुबह-सुबह सुहागिन महिलाएं अपने घरों से निकलकर आसपास में लगे बरगद के पेड़ के नीचे पहुंच गए और विधि-विधान के साथ वट- सावित्री की पूजा-अर्चना कर पति के लंबी उम्र की मंगल कामना की, एवं परिवार के सुख-समृद्ध के लिए प्रार्थना की। इधर कोलेबिरा प्रखंड में पर्व की महता पर प्रकाश डालते हुए नवीन पंडित ने कहा कि वट-सावित्री पूजा सुहागिनों के अखंड सौभाग्य प्राप्त करने का प्रमाणिक और प्राचीन व्रत है।

व्रत करने से अल्पायु पति भी दीघार्यु हो जाता है

धर्म ग्रंथों में इस बात का उल्लेख है कि व्रत करने से अल्पायु पति भी दीघार्यु हो जाता है। उन्होंने बताया कि जब सत्यवान की आत्मा को यमराज लेने पहुंचे थे, तब उनकी पत्नी सावित्री भी उनके पीछे-पीछे चल पड़ी। यमराज के काफी समझाने के बाद भी जब वह वापस नहीं लौटी, तब विवश होकर यमराज ने सत्यवान के मृत शरीर को जिन्दा कर लौटा दिये. इधर सुहागिन महिलाएं वट वृक्ष के नीचे वट-वृक्ष की पूजा करते हुए जल, फूल,  कच्चा सूत, भीगा चना, गुड़ इत्यादि  चढ़ाते हुए रोली मोली धागा को बट ब्रिज में बांधते हुए परिक्रमा की और जलाभिषेक करते हुए पूजा संपन्न की।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored