Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News

समाजसेवियो और मीडिया  की मदद से वतन वापस लौटा सतीश चौधरी

14

- Sponsored -

- sponsored -

रिपोर्ट  अनिल कुमार

पटना: बांग्लादेश की जेल से 11 साल के बाद जेल से रिहा होकर वतन वापस लौट रहे बिहार के सतीश चौधरी की गुरुवार को हो ही गई . बांग्लादेशी कपड़ों में ही उसे शुक्रवार की रात पटना-हावड़ा जनशताब्दी एक्सप्रेस से पटना जंक्शन लाया गया. इस दौरान सतीश चौधरी का छोटा भाई मुकेश चौधरी भी उनके साथ था.सतीश के घर वापसी को लेकर पटना जंक्शन के प्लेटफार्म संख्या 9 पर समाजसेवियों ने सतीश और मुकेश का फूल मालाओं से स्वागत किया.

इस दौरान सतीश का भाई मुकेश काफी भावुक नजर आया और अपने भाई के घर वापसी की खुशी में उसके खुशी के आंसू नहीं रोक सका .सतीश के भाई मुकेश ने पटना जंक्शन पर मीडिया से बात करते हुए बताया कि उसने अपने भाई को खोजने के लिए दर-दर की ठोकरें खाई है. उसका परिवार तो आशा ही छोड़ चुका था कि वह अब कभी वापस लौट के आएगा, पर कुछ समाजसेवियो और मीडिया  की मदद से उनका भाई आज सकुशल घर लौट पाया है. इससे वह बेहद खुश है .

- Sponsored -

- sponsored -

उसके भरण पोषण के लिए सरकार से मदद की गुजारिश सतीश के भाई गंगासागर चौधरी ने बताया कि 25 साल की उम्र में ही उसका बड़ा भाई उसके घर से काम के सिलसिले में निकला था. मानसिक रुप से कमजोर होने के कारण वह लापता हो गया. लेकिन 11 साल के बाद उसका बड़ा भाई अपने गांव वापस लौट रहा है. इस कारण से पूरे गांव समाज में खुशी का माहौल है. खास करके मां, सतीश के लिए पलके बिछाए इंतजार कर रही है. वहीं, सतीश के इतने दिनों जेल में बंद रहने से उसकी मानसिक स्थिति और भी खराब हो गई है. उसके दो छोटे-छोटे बच्चे हैं. उसका अब आगे का भरण पोषण कैसे होगा. इसको लेकर सतीश के दोनों भाइयों ने सरकार से मदद की गुजारिश की है.

भटक कर पहुंचा था बांग्लादेश

दरअसल दरभंगा जिला के मनोरथा गांव के रहने वाले सतीश चौधरी का मानसिक संतुलन ठीक नहीं रहता था. वह इलाज के लिए दरभंगा से पटना आया था. इसी दौरान भटक कर वह बांग्लादेश पहुंच गया. उसके छोटे भाई मुकेश चौधरी ने उसे खोजने का काफी प्रयास किया. लेकिन नहीं मिलने के बाद वह निराश हो गया. वहीं, 2012 में उसे जानकारी मिली की उसका भाई बांग्लादेश के जेल में बंद है. इसके बाद वह उसे वापस लाने के लिए काफी प्रयास किये. उसने सरकार और प्रशासन से मदद की गुहार लगाई लेकिन कोई मदद नहीं मिली. वहीं, मानवाधिकार कार्यकर्ता विशाल रंजन ने उसकी मदद की जिसके बाद उसे शुक्रवार की शाम सकुशल हंसते मुस्कुराते पटना जंक्शन लाया जा सका.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored