Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

समय से रेस लगाते देखा, गाते और गुनगुनाते देखा, अपनी मंजिल की खैर नहीं, सबको मंजिल पर पहुंच आते देखा

24

- sponsored -

- Sponsored -

पूर्व मध्य रेल के राजभाषा विभाग द्वारा पटना जंक्शन परिसर में स्थित रेल सभागार में युवा कवि दिलीप कुमार की कविताओं का एकल पाठ आयोजित किया गया । कवि दिलीप कुमार ने अपने संग्रह अप डाउन में फंसी जिंदगी से कई कविताओं का पाठ किया जिसमें रेल कर्मियों के जीवन के विविध रंग देखने को मिले –
 समय से रेस लगाते देखा/गाते और गुनगुनाते देखा/अपनी मंजिल की खैर नहीं/सबको मंजिल पर पहुंच आते देखा । रेल पटरियों की देखरेख करने वाले ट्रैकमैन  के जीवन से जुड़ी कविता को श्रोताओं ने खूब पसंद किया : दहकता हुआ सूरज/समा गया है रेल की पटरियों में/ पैरों में पड़ गए हैं छाले/चौंधिया गई हैं आंखें/फिर भी पटरियों की देखरेख का क्रम जारी है/उसका समर्पण सूरज की तपिश पर भारी है ।

- Sponsored -

- sponsored -

दिलीप कुमार ने बिहार के लोक जीवन और त्योहारों से जुड़ी कई कविताओं का पाठ कर श्रोताओं के दिल में जगह बनाई । सरल शब्द विन्यास के बावजूद दीप का सवाल कविता श्रोताओं को खूब पसंद आई : दीपावली के दिन अपने घर आंगन में दीप जलाया/धरती से आसमान तक अंधेरे को मार भगाया/फिर अपने मन में एक दीप क्यों नहीं जलाते/मन के अंधेरे को दूर क्यों नहीं भगाते ? इसी तर्ज पर उन्होंने रावण दहन से जुड़ी कविता औपचारिकता सुनाई: धू-धू कर जल गया रावण का पुतला/शहर के बीच मैदान में/लोगों ने देखा तमाशा/बजाई तालियां/और लौट गए/ अपने-अपने घर को/मन की बुराई, मन में ही समेटे । महिला श्रोताओं को जलती तो बाती है कविता को पसंद आई : दीया को जीवन मैंने दिया/जली रात भर, जग को रौशन किया/ मैं औरत हूं/मुझे औरत ही बनाती है/वही औरत जो दिन भर खाना पकाती है/और रात में सबसे अंत में खाती है/वही औरत जो अधूरेपन में जीती है/लेकिन पूर्णता में देती है/किसी उपलब्धि का कभी श्रेय नहीं लेती है/सभी औरतों की एक जैसी थाती है/नाम दीए का होता है, पर जलती तो बाती है ।
कार्यक्रम की अध्यक्षता स्टेशन निदेशक डॉ निलेश कुमार ने की । आयोजन के दौरान  वरिष्ठ कवयित्री भावना शेखर ने कहा कि दिलीप कुमार की कविताओं में सादगी और सच्चाई है ।  मुकेश प्रत्यूष ने कहा कि इस्पाती चौखट में रहने के बावजूद उनकी कविताओं में मानवीय संवेदना है । मौके पर ध्रुव कुमार कुमार रजत, प्रणय प्रियंवद, शायर कासिम खुर्शीद, समीर परिमल, हिंदी सलाहकार समिति के सदस्य वीरेंद्र यादव आदि उपस्थित रहे । कार्यक्रम का संचालन कवि राजकिशोर राजन और धन्यवाद ज्ञापन सिद्धेश्वर ने किया ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -