Sanmarg Live
Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, : Sanmarg Live, Morning India, Aawami News
BREAKING NEWS


{"effect":"slide-h","fontstyle":"bold","autoplay":"true","timer":"4000"}

राज्य सूचना आयोग ने थानाध्यक्ष पर पच्चीस हजार रुपए अर्थदंड की सजा मुकर्रर की

124

- sponsored -

- Sponsored -

राज्य सूचना आयोग ने तात्कालिक भभुआ टाउन थानाध्यक्ष राकेश कुमार सिंह पर पच्चीस हजार रुपए अर्थदंड की सजा मुकर्रर की

- sponsored -

- Sponsored -

कैमूर : कैमूर जिले के विभिन्न थानों में थानाध्यक्ष के पद पर तैनात पुलिसिया रौब एवं वर्दी के दम पर अधिवक्ताओं एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं पर कहर ढ़ाने वाले तत्कालीन थानाध्यक्ष राकेश कुमार सिंह के विरुद्ध राज्य सूचना आयोग ने ₹25000 (पच्चीस हजार) रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई है । जिसके भुगतान के लिए आयोग ने जिलाधिकारी कैमूर सहित एसपी एवं कोषागार पदाधिकारी को पत्र भेजकर वेतन से कटौती करने का निर्देश दिया है । साथ ही एक पक्ष के अंदर लोक सूचना पदाधिकारी सह थानाध्यक्ष को सूचना देने में विलंब के कारणों को स्पष्ट करने का निर्देश जारी किया गया है । आयोग द्वारा निर्धारित तिथि आगामी 8 जुलाई को स्पष्टीकरण नहीं दिए जाने पर सूचना अधिकार अधिनियम की धारा 20 (2 ) के अंतर्गत सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी है । बता दें कि सासाराम व्यवहार न्यायालय के अधिवक्ता विजय कुमार ने दिनांक 17 जनवरी 2017 को अपने पत्नी सह महिला थानाध्यक्ष भभुआ एवं बच्चों से मुलाकात करने अपनी विवाहिता बहन मालती देवी के साथ उनके आवास पर पुलिस लाइन पहुंचे थे । जहां से थानाध्यक्ष ने जबरन दोनों को पुलिस लाइन से उठाकर पूरे दिन थाने में रखकर प्रताड़ित किया और शाम में छोड़ दिया । जिससे संबंधित सूचना की मांग अधिवक्ता ने की । जिसपर आनाकानी करते हुए लोक सूचना पदाधिकारी सह थानाध्यक्ष ने सूचना नहीं दी । अधिवक्ता द्वारा कारण पूछने पर विपक्षी के मेल में आकर उन्हें प्रताड़ित भी किया था और उन लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज होने की बात बताई थी । जिसके लिए आवेदक अधिवक्ता ने लोक सूचना अधिकार अधिनियम के अंतर्गत पूरी सूचना उपलब्ध कराने का आग्रह किया किंतु उन्हें सूचना गोपनीय दस्तावेज बताकर नहीं दी गई थी । तब अधिवक्ता ने प्रथम अपीलीय प्राधिकारी के यहां अपील दायर किया तथा वहां से भी कोई मानक जवाब नहीं दिया गया । जिस कारण राज्य सूचना आयोग में द्वितीय अपील हुआ । जहां लोक सूचना पदाधिकारी सह थानाध्यक्ष ने कोई जवाब नहीं दिया । जिसके लिए आयोग ने ढाई सौ रुपए प्रतिदिन के हिसाब से कुल ₹25000 अर्थदंड की सजा सुनाई और उसे हर हाल में जमा करने के लिए कैमूर के डीएम, एसपी, कोषागार पदाधिकारी को पत्र निर्गत किया है । लेकिन सूचना के मुताबिक लोक सूचना पदाधिकारी सह थानाध्यक्ष वर्तमान में रोहतास जिले के रोहतास थानाध्यक्ष के पद पर कार्यरत हैं ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -